हाथरस मामला: आयोग ने उत्तर प्रदेश सरकार से जवाब मांगा, जल्दबाजी में कराये गये अंतिम संस्कार के मामले का भी लिया संज्ञान

हाथरस मामला: आयोग ने उत्तर प्रदेश सरकार से जवाब मांगा, जल्दबाजी में कराये गये अंतिम संस्कार के मामले का भी लिया संज्ञान

नयी दिल्ली।  राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने उत्तर प्रदेश के हाथरस जिले में दलित समुदाय की एक 19 वर्षीय युवती के साथ कथित सामूहिक बलात्कार और बुरी तरह से मारपीट के मामले का स्वत संज्ञान लेते हुए राज्य के मुख्य सचिव और पुलिस महानिदेशक को नोटिस जारी कर चार सप्ताह में जवाब मांगा है।

आयोग ने इस मामले में मीडिया रिपोर्टों का उल्लेख करते हुए कहा है कि उपचार के दौरान मंगलवार को इस युवती की अस्प्ताल में मौत हो गयी। आयोग ने मीडिया रिपोर्ट का उल्लेख करते हुए युवती के जल्दबाजी में कराये गये अंतिम संस्कार के मामले का भी संज्ञान लिया है।

आयोग ने कहा है कि मीडिया में आयी रिपोर्ट में उल्लेखित हालात दुखद स्थिति बयां करते हैं। ऐसा लगता है कि पुलिस के इस मामले में समय से कार्रवाई नहीं किये जाने के कारण युवती को बचाया नहीं जा सका। रिपोर्टों से ऐसा लगता है कि आरोपियों के मन में कानून का कोई डर नहीं है। इससे राज्य में कानून और व्यवस्था की स्थिति को लेकर सवाल उठते हैं। आयोग का मानना है कि इस मामले में पीडितों के मानवाधिकारों का उल्लंघन हुआ है।

आयोग ने राज्य सरकार से मृतक के परिजनों को पर्याप्त सुरक्षा मुहैया कराने का निर्देश दिया है। उसने पुलिस महानिदेशक को इस मामले पर खुद ध्यान देने को कहा है जिससे कि इसका जल्द निपटारा हो सके।