breaking news New

पुरुष नसबंदी पखवाड़ा शुरू : मोर मितान मोर संगवारी के माध्यम से दूर की जाएंगी शंकाए

पुरुष नसबंदी पखवाड़ा शुरू : मोर मितान मोर संगवारी के माध्यम से दूर की जाएंगी शंकाए

घर-घर जाकर बताए जाएंगे परिवार नियोजन के फायदे

राजनांदगांव। पुरुष नसबंदी को बढ़ावा देने के उद्देश्य से जिले में 21 नवंबर से पुरुष नसबंदी पखवाड़ा शुरू किया गया है जो कि 4 दिसंबर तक चलाया जाएगा। यह पखवाड़ा दो चरणों में आयोजित किया जा रहा है। पुरुष नसबंदी पखवाड़े को इस बार पुरुषों ने परिवार नियोजन अपनाया, सुखी परिवार का आधार बनाया की थीम पर मनाया जा रहा है। 

पुरुष नसबंदी पखवाड़े के पहले चरण में लाभार्थियों को पुरुष नसबंदी की जानकारी दी जा रही है और उन्हें इसे अपनाने के लिए तैयार किया जा रहा है, जबकि दूसरे चरण में चिन्हित लाभार्थियों को सेवाएं उपलब्ध कराई जाएंगी। 

स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग की ओर से यह पूरा कार्यक्रम कोरोना से बचाव हेतु निर्धारित आवश्यक नियमों का पालन करते हुए संचालित किया जा रहा है। परिवार नियोजन विभाग की जिला नोडल अधिकारी डॉ. अल्पना लुनिया ने बताया, पुरुष नसबंदी पखवाड़े को दो चरण में बांटा गया है।

इसमें पहला चरण मोबिलाइजेशन और दूसरा सेवा वितरण चरण के रूप में मनाया जाएगा। पहला चरण 21 से 27 नवंबर तक मनाया जाएगा। वहीं दूसरा चरण 28 नवंबर से 4 दिसंबर तक मनाया जाएगा।  

पुरुष स्वास्थ्य कार्यकर्ता मोर मितान मोर संगवारी का आयोजन करेंगे जिसमें वह अपने क्षेत्र के समस्त लक्षित दंपत्तियों के पुरुषों से संपर्क कर व्यक्तिगत चर्चा में नसबंदी के फायदे बताएंगे और साथ ही समुदाय में फैले हुए पुरुष नसबंदी से संबंधित मिथकों और भ्रांतियों को दूर करने के लिए परामर्श करेंगे।

इस दौरान मुख्यतः वैसेक्टोमी यानी पुरुष नसबंदी पर विशेष ध्यान केंद्रित किया जाएगा। इसी तरह सेवा वितरण चरण के अंतर्गत चिन्हित लाभार्थियों को सेवाएं प्रदान की जाएगी।

इस संबंध में राजनांदगांव के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मिथिलेश चौधरी ने बताया, दो चरणों में मनाए जा रहे पुरुष नसबंदी पखवाड़े के दौरान जिले के शहरी व ग्रामीण क्षेत्र के प्रत्येक स्वास्थ्य केंद्र में पुरुष नसबंदी सेवा और इसके फायदे को प्रदर्शित किया जाएगा।

नसबंदी के तीन माह उपरांत (जांच में शुक्राणु संख्या शून्य पाए जाने पर) ही प्रमाण पत्र हितग्राही को प्रदान किया जाएगा। इस कार्यक्रम के प्रचार-प्रसार के लिए डिजिटल माध्यम को भी प्रमुखता से अपनाया गया है।

कोविड-19 संक्रमण के संभावित खतरे की वजह से संवेदनशील क्षेत्रों में मोबाइल वैन की व्यवस्था कर प्रचार-प्रसार किया जा रहा है। प्रचार-प्रसार के दौरान कोविड-19 संक्रमण की रोकथाम के लिए पूरी सावधानी रखी जा रही है। कहीं भी अधिक भीड़ एकत्रित न होए इसका ध्यान रखा जा रहा है।