breaking news New

होगा शुगर कंट्रोल, 'वॉटर कैल्ट्रॉप' से... 7 औषधीय तत्व के होने की सामने आई जानकारी

 होगा शुगर कंट्रोल, 'वॉटर कैल्ट्रॉप' से... 7 औषधीय तत्व के होने की सामने आई जानकारी


राजकुमार मल

भाटापारा- खुलासा । खाएंगे सिंघाड़ा तो खत्म होगी एसिडिटी की समस्या। नियंत्रण में रहेगी शुगर की मात्रा। दिलचस्प यह कि यदि इसका पेस्ट बनाकर फटी हुई एड़ियों में लगाया जाए तो "क्रैक हील" जैसी समस्या भी दूर की जा सकेगी।

शीत ऋतु ने दस्तक दे दी है। इस मौसम में आने वाली, जलीय सब्जी सिंघाड़ा भी अपनी भरपूर मौजूदगी दिखाने लगा है। कम- से- कम सात ऐसी बीमारियां इसके सेवन से दूर की जा सकेंगी, जिससे लगभग हर कोई किसी ना किसी रूप में परेशान है। कीमत क्रय शक्ति के भीतर है। इसलिए सेवन की सलाह, कृषि वैज्ञानिकों ने दी हुई है, ताकि स्वास्थ्यगत बीमारी से दूर रहने में मदद मिल सके।


होते हैं यह तत्व

'वाटर चेस्टनट' या 'वॉटर कैल्ट्रॉप' के नाम से पहचाने जाने वाले सिंघाड़ा में कैल्शियम, विटामिन-ए और सी की भरपूर मात्रा का होना पाया गया है। कार्बोहाइड्रेट और प्रोटीन की प्रचुर मात्रा, सिंघाड़ा को कम-से-कम सात ऐसी बीमारियों को दूर करती है, जिससे लगभग हर कोई परेशान होता आ रहा है।


सात माह में तैयार

जलीय सब्जी सिंघाड़ा की खेती प्लेन एरिया में, कीचड़ वाली भूमि में की जा सकती है। सात माह में तैयार होने वाले सिंघाड़ा में कैल्शियम की मात्रा भरपूर होती है। इसलिए इसे पेट संबंधी लगभग सभी बीमारियों की रोकथाम में मददगार माना गया है। यह गुण, सिंघाड़ा को महत्वपूर्ण जगह देता है।


राहत अस्थमा और मधुमेह से

अस्थमा और मधुमेह की बीमारी से लगभग हर दूसरा व्यक्ति ग्रसित है। दवाइयां तो हैं लेकिन जैसा परिणाम, सिंघाड़ा के सेवन से मिला है, वह हैरत में ही डालता है। फसल की आवक के दिनों में सेवन से यह दोनों बीमारी नियंत्रण में रखी जा सकती है। सीजन की वापसी के बाद सूखा सिंघाड़ा उपयोग में लाया जा सकता है।


छुटकारा क्रैक हील से भी

शीत ऋतु में एड़ियों के फटने की शिकायत आती है। इसका पेस्ट बनाकर लगाने से क्रैक हील से आराम तो मिलता ही है, साथ ही दर्द वाले हिस्से पर लगाने के बाद दर्द से छुटकारा पाया जा सकता है। गैस और अपच जैसी समस्या दूर रखने में सक्षम, सिंघाड़ा में कैल्शियम की मात्रा भरपूर होने की वजह से गर्भवती महिलाओं के लिए आदर्श खाद्य पदार्थ माना गया है।


सिंघाड़ा में वैसे तो कई औषधीय गुणों के होने की जानकारी का खुलासा हुआ है लेकिन कैल्शियम की मात्रा ज्यादा होने की वजह से पेट संबंधी रोगों को दूर करने में सक्षम है।
- डॉ अमित दीक्षित, साइंटिस्ट, वेजिटेबल एंड फ्रूट साइंस, कृषि महाविद्यालय, कुरूद