ब्रेकिंग न्यूज : चीन को बड़ा झटका, कोरोना टेस्ट करने के लिए बनी उसकी एंटीबॉडी परीक्षण किट को ब्रिटेन सरकार ने खारिज किया, वैज्ञानिक बोले, 'किट साबित नही कर सकी कोरोना'

ब्रेकिंग न्यूज : चीन को बड़ा झटका, कोरोना टेस्ट करने के लिए बनी उसकी एंटीबॉडी परीक्षण किट को ब्रिटेन सरकार ने खारिज किया, वैज्ञानिक बोले, 'किट साबित नही कर सकी कोरोना'

ब्रिटेन सरकार ने अपने नए परीक्षण में प्रमुख तौर पर माना है कि चीन से आदेशित 3.5 मिलियन एंटीबॉडी परीक्षण किट में से कोई भी व्यापक उपयोग के लिए फिट नहीं है।

प्रोफेसर जॉन न्यूटन, जिन्हें स्वास्थ्य सचिव मैट हैनकॉक द्वारा परीक्षण की देखरेख के लिए नियुक्त किया गया था, ने कहा कि परीक्षण केवल उन लोगों में प्रतिरक्षा की पहचान करने में सक्षम थे जो कोरोनोवायरस से गंभीर रूप से बीमार थे लेकिन वे सामान्य लक्षण् दिखने को प्रमाणित करने में यह किट अक्षम निकली.

इस खबर के बीच चीन को बड़ा झटका लगा है क्योंकि 3.5 मिलियन एंटीबॉडी परीक्षण किट आपूर्ति करना चाहता था परंतु वह पहले ही परीक्षण में फेल हो गईं. जांच लैब में इसकी टेस्टिंग कर रही टीम ने इसे खारिज कर दिया है और कहा है कि इस किट से बहुत बड़े पैमाने पर रोल आउट होने लायक नहीं थे. पब्लिक हेल्थ इंग्लैंड (पीएचई) विभाग के सार्वजनिक स्वास्थ्य सुधार के निदेशक प्रो न्यूटन ने कहा कि कर्मचारियों के परीक्षण के लिए तीन "मेगा लैब" उनकी सर्वोच्च प्राथमिकता थी और इससे विश्वविद्यालय और वाणिज्यिक प्रयोगशालाओं को मदद करने में सक्षम होने की उम्मीद थी परंतु वह पूरी नही हो सकी.

उन्होंने कहा "हम बहुत से लोगों पर भरोसा नहीं कर रहे हैं जो हमारी आवश्यकता को प्राप्त करने के लिए आगे आ रहे हैं और हमें इससे बहुत विचलित नहीं होना चाहिए।" उन्होंने कहा कि इस समय एक बड़ा सवाल यह है कि एनएचएस कर्मचारियों के परीक्षण के लिए बहुत सी कंपनियां सामने आई हैं जो विशेष किट देने का दाव कर रही हैं परंतु इतनी मददगार नही हो सकतीं.

श्री हैंकॉक ने यह भी स्वीकार किया है कि परीक्षणों के शुरुआती विश्लेषण से पता चला है कि "उनमें से बहुतों ने अच्छा प्रदर्शन नहीं किया है. उन्होंने कहा कि: "हमें उम्मीद है कि वे [परीक्षण] इसमें सुधार करेंगे और बाद में जो परीक्षण हमें अपने हाथों से मिले हैं, वे लोगों के लिए भरोसेमंद रूप से उपयोग करने में सक्षम होंगे।

पिछले महीने, पीएचई के एक निदेशक ने मंत्रियों को बताया था कि 15 मिनट के अंदर कोरोना साबित करने वाली यह किट कुछ ही दिनों में उपलघ होगी परंतु इस रिॅसर्च ने सब किए कराए पर पानी फेर दिया.