breaking news New

बिहार में फिर एनडीए, 125 सीटों के साथ सबसे बड़ी पार्टी बनी, राजद—कांग्रेस महागठबंधन ने 110 सीटों पर जीत हासिल की, नीतीश कुमार 7वीं बार लेंगे शपथ

बिहार में फिर एनडीए, 125 सीटों के साथ सबसे बड़ी पार्टी बनी, राजद—कांग्रेस महागठबंधन ने 110 सीटों पर जीत हासिल की, नीतीश कुमार 7वीं बार लेंगे शपथ

बिहार विधानसभा चुनाव के पूरे नतीजे घोषित हो गए हैं. चुनाव आयोग के मुताबिक एनडीए ने 125 सीटें जीती हैं, जो बहुमत के लिए जरूरी 122 सीटों से तीन अधिक है. वहीं महागठबंधन ने 110 सीटों पर जीत हासिल की है. इस चुनाव में 75 सीटों को जीतकर आरजेडी सबसे बड़ी पार्टी बनी है. वहीं 74 सीट जीतकर बीजेपी दूसरी सबसे बड़ी पार्टी बनी. 43 सीटें जीतकर जदयू तीसरे नंबर की पार्टी बनी. महागठबंधन की दूसरी सबसे बड़ी पार्टी कांग्रेस के 19 विधायक चुनाव जीते. जबकि भाकपा माले के 12 और माकपा व सीपीआइ को दो-दो सीटें मिली. एनडीए में पूर्व सीएम जीतन राम मांझी की पार्टी को चार और वीआइपी को चार सीटें आयीं.

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने फोन करके मुख्यमंत्र नितीश कुमार को बधाई दी. केंद्रीय मंत्री और बीजेपी के वरिष्ठ नेता अश्विनी चौबे ने एनडीए को मिली जीत पर खुशी जताई है. उन्होंने कहा है कि मैं बिहार के लोगों के प्रति अपना आभार व्यक्त करना चाहता हूं. यह जीत पीएम नरेंद्र मोदी की कड़ी मेहनत और मार्गदर्शन का परिणाम है. लोगों ने डबल-इंजन की सरकार का चुनाव किया और 'डबल युवराज' को खारिज कर दिया.

बीजेपी पहले ही यह साफ कर चुकी है कि सीटें कम आएं नीतीश कुमार ही सीएम बनेंगे. नी‍तीश लगातार चौथी बार और कुल सातवीं बार बिहार के मुख्‍यमंत्री पद का कार्यभार संभालेंगे. वे राज्‍य के 37वें मुख्‍यमंत्री के रूप में शपथ लेंगे. नीतीश मुख्‍यमंत्री बने तो वे सातवीं बार शपथ लेंगे.

महागठबंधन का किसने बिगाड़ा खेल

पप्पू यादव की अगुवाई वाला प्रगतिशील लोकतांत्रिक गठबंधन और उपेंद्र कुशवाहा के नेतृत्व वाला ग्रैंड डेमोक्रेटिक सेक्युलर फ्रंट बिहार चुनाव में कुछ खास न कर सका. पप्पू यादव खुद मधेपुरा से हार गए. मगर इन दोनों गठबंधनों ने राजद और महागठबंधन की तमाम सीटों का खेल खराब कर दिया. चिराग पासवान, ओवैसी और मायावती की बीएसपी ने इसमें बड़ी भूमिका निभाई. उपेंद्र कुशवाहा की आरएलएसपी के खाते में भले कोई सीट ना आई हो लेकिन उन्होंने राजद के वोटबैंक में जमकर सेंधमारी की.