breaking news New

कांग्रेस प्रवक्ता सुशील आनंद शुक्ला का पलटवार, 'सेंट्रल विस्टा का शिलान्यास कोरोना के बीच हुआ जबकि नवा रायपुर का शिलान्यास के समय कोरोना दुनिया मे नही था'

कांग्रेस प्रवक्ता सुशील आनंद शुक्ला का पलटवार, 'सेंट्रल विस्टा का शिलान्यास कोरोना के बीच हुआ जबकि नवा रायपुर का शिलान्यास के समय कोरोना दुनिया मे नही था'

जनधारा समाचार
रायपुर. प्रदेश कांग्रेस ने सेंट्रल विस्टा की तुलना को छत्तीसगढ़ के नवा रायपुर में बनने वाले सीएम हाउस मंत्री निवास राजभवन विधानसभा से करने को भाजपा की खीझ बताया है। प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता सुशील आनंद शुक्ला ने कहा कि नया रायपुर में मुख्यमंत्री मंत्री निवास राजभवन का शिलान्यास 25 अक्टूबर 2019 को हो गया था तब भारत तो क्या दुनिया ने कोरोना नामक महामारी की कल्पना नही की थी ।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने कोरोना काल मे जब कोरोना की पहली लहर से देश उबरा भी नही था और दूसरी लहर आने की संभावना वैज्ञानिक बता रहे थे तब इसका शिलान्यास दिसम्बर 2020 में किया और सुप्रीम कोर्ट ने इसके निर्माण पर रोक जनवरी 2021 में हटाई तब तक दुनिया में कोविड की दूसरी लहर आ गयी थी। जब दुनिया भर के वैज्ञानिक विशेषज्ञ भारत को दूसरी लहर के लिए तैयार रहने और टीकाकरण की कार्ययोजना बनाने की सलाह दे रहे थे तब प्रधानमंत्री मोदी और भाजपा सरकार कोविड से बचाव को दरकिनार कर सेंट्रलविस्टा प्रोजेक्ट को आपली जामा पहना रहे थे।

श्री शुक्ला ने कहा कि दिल्ली के सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट की कोई आवश्यकता नही थी कि संकट के समय इसको प्राथमिकता दी जाय। देश का संसद भवन दुनिया के बेहतरीन भवनों में से एक है भारत का राष्ट्रपति भवन बेमिसाल है, सेंट्रल सेक्रेटेरियेट से लेकर प्रधानमंत्री आवास मंत्रियों के आवास सभी सर्व सुविधायुक्त हैं। मोदी सरकार अपनी सनक और शाहखर्ची के कारण सेंट्रल विस्टा प्रजेक्ट पर 20000 करोड़ से अधिक खर्चा करने जा रही है। इतने में तो देश की तीन चौथाई आबादी का वेक्सिनेशन हो जाएगा।

उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ में विधानसभा भवन ,मुख्यमंत्री और मंत्रियों के बंगले नए राजधानी में बनाने की आवस्यकता इसलिए पड़ी ताकि पूर्ववर्ती भाजपा सरकार ने अदूरदर्शिता पूर्वक नई राजधानी में जो 14000 करोड़ रु खर्च किया था उसका उपयोग किया जा सके वह व्यर्थ न हो इसलिए छत्तीसगढ़ सरकार ने 500 करोड़ की योजना बनाई।

पूर्ववर्ती रमन सरकार ने नई राजधानी में भवनों सड़को गार्डन आदि के विकास के नाम पर 14000 करोड़ खर्च तो कर दिया था लेकिन वहां बसाहट कैसे होगी, नई राजधानी में लोगो की आवाजाही कैसे होगी, इस दिशा में कोई योजना नही बनाई । नया रायपुर बना दिया मुख्यमंत्री, मंत्री अधिकारियों के निवास पुराने रायपुर में ही हैं जिसके कारण नई राजधानी में निवेश किये गए 14000 करोड़ रु व्यर्थ साबित हो रहे थे। बड़ी बड़ी बिल्डिंगे खंडहर हो रही थी। सड़कों स्ट्रीट लाई गार्डनों आदि के रख रखाव में हर महीने लाखो रूपये फिजूल में अलग खर्च हो रहे है। आज भी नया रायपुर वीरान पड़ा हुआ है. नया रायपुर में बसाहट बढ़ाने और वहां खर्च किये गए पैसों की उपयोगिता के लिये कांग्रेस सरकार ने निर्णय लिया कि मुख्यमंत्री मंत्री अधिकारी रहें विधानसभा भी नवा रायपुर में बने।

श्री शुक्ला ने कहा कि रमन सिंह ने जिस सीएम हाउस को 18 एकड़ में 81 करोड़ रु में बनाने की स्वीकृत 2014 में दिया था, भूपेश बघेल ने उसे मात्र 8 एकड़ में करवा दिया उसकी लागत भी 60 करोड़ करवा दिया।