breaking news New

कलेक्टर ने बीएमओ से कडे़ शब्दों मे कहा-लक्ष्य से कम कोरोना टेस्ट करने पर कारण बताना होगा

कलेक्टर ने बीएमओ से कडे़ शब्दों मे कहा-लक्ष्य से कम कोरोना टेस्ट करने पर कारण बताना होगा

कलेक्टर यशवंत कुमार ने कहा -लक्ष्य के अनुसार प्रतिदिन कोरोना वायरस की जांच पूरी करें,  अवकाश के दिनों में भी होगी कोरोना वायरस की जांच

जांजगीर-चापा।  कलेक्टर यशवंत कुमार ने आज जिला कार्यालय में आयोजित कोविड कोर कमेटी की बैठक में कहा कि सभी खंड चिकित्सा अधिकारियों को कोरोना वायरस जांच करने के लिए प्रतिदिन का लक्ष्य दिया गया है।

 उन्होंने उपस्थित बीएमओ से कडे़ शब्दों मे कहा कि लक्ष्य से कम टेस्ट करने पर, उन्हें उस दिन जिला कार्यालय में उपस्थित होकर कारण बताना होगा। कलेक्टर ने कहा कि कोरोना वायरस की रोकथाम एवं सुरक्षा के लिए लक्षण वाले  व्यक्तियों की जांच अत्यंत आवश्यक है। उन्होंने कहा कि अवकाश के दिनों में भी कोरोना जांच जारी रहे।

 कलेक्टर ने कहा कि संक्रमित पाए गए मरीजों को डॉक्टर की अंडरटेकिंग में होम आइसोलेशन की अनुमति दी गई है। कलेक्टर ने कहा कि संबंधित डाक्टर दिन मे दो बार मरीजों से संपर्क कर ऑक्सीजन  लेवल, टेंपरेचर और अन्य जानकारी एकत्रित करें। कलेक्टर ने कहा कि किसी भी प्रकार के लक्षण पाए जाने पर तत्काल मरीज को आइसोलेशन सेंटर में शिफ्ट करने की कार्रवाई की जाए। 

इसी प्रकार जांच के दौरान लक्षण वाले मरीजों को होम आइसोलेशन की अनुमति नहीं दी जाएगी। उन्हें उपचार के लिए तत्काल जिला अस्पताल अथवा कोविड केयर सेटर में भर्ती करने की कार्रवाई की जाएगी।

 कलेक्टर ने कहा कि स्वास्थ्य सुरक्षा अभियान के तहत सप्ताह में 2 दिन बुधवार और गुरुवार को स्वास्थ्य विभाग की टीम और पंचायत विभाग के सचिव के समन्वय से सर्वे किया जा रहा है। कलेक्टर ने लक्षण वाले व्यक्तियों की जांच सर्वे के दिन ही पूर्ण करने के लिए खण्ड चिकित्सा अधिकारियो को निर्देशित किया। उन्होंने सर्वे में कोरोना वायरस से स्वास्थ गत खतरे के संबंध में  लोगों को सचेत व जागरुक करने के निर्देश दिए।

कलेक्टर ने कहा कि मेडिकल स्टोर और प्राइवेट अस्पताल के निरीक्षण के लिए टीम गठित की गई है। टीम की रिपोर्ट के आधार पर भी संदीग्ध व्यक्तियों की कोरोना जांच की जाए। टीम द्वारा निरीक्षण रिपोर्ट नही देने पर उनके खिलाफ भी सख्त कार्यवाई के लिए जिला पंचायत सीईओ श्री तीर्थराज अग्रवाल को निर्देशित किया। 

कोरोना जांच संबंधी डाटा अपलोड करने के लिए अन्य विभागो के कम्प्यूटर आपरेटर्स  की ड्यूटी लगाई गई है। ड्यूटी आदेश की अवहेलना कर अनुपस्थित रहने वाले कम्प्यूटर आपरेटर्स के खिलाफ कार्यावाई के लिए जिला पंचायत सीईओ को निर्देश दिए। कलेक्टर ने डीपीएम से कहा कि कोरोना जांच संबंधी डाटा सही अपलोड करने में सावधानी रखें। उन्होंने कहा कि प्रतिदिन डाटा अपलोड कार्य की मानिटरिंग करें, ताकि स्टेट के आंकड़े और जिले के आंकड़े समान दिखें। 

 बैठक में पुलिस अधीक्षक  पारुल माथुर, सीएमएचओ डॉ एस आर बंजारे, सभी खंड चिकित्सा अधिकारी सहित संबंधित विभाग के अधिकारी उपस्थित थे।