breaking news New

फंदे पर लटकते मिली महंत नरेंद्र गिरि की लाश, सुसाइड नोट में शिष्य का ज़िक्र

फंदे पर लटकते मिली महंत नरेंद्र गिरि की लाश, सुसाइड नोट में शिष्य का ज़िक्र

प्रयागराज। सोमवार को अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की लाश बाघंबरी मठ में उनके कमरे में नाईलोन की रस्सी के फंदे पर लटकते मिली थी.सुसाइड नोट बरामद हुआ है. सुसाइड नोट में उनके एक शिष्य का ज़िक्र किया गया है, जिसने महंत नरेंद्र गिरि को मानसिक तौर पर परेशान किया था.

 पुलिस अब उनके शिष्य आनंद गिरि को लेकर जांच में जुट गई है. इसी के चलते हरिद्वार में आनंद गिरि को हिरासत में लिया गया है. महंत नरेंद्र गिरि ने अपने सुसाइड नोट में लिखा है कि आश्रम के बारे में क्या करना है और वसीयत नामा भी लिखा है.  सुसाइड नोट में उन्होंने लिखा है कि मैंने आत्महत्या की है. क्योंकि वे अपने शिष्य से दुखी थे.

जानकारी के मुताबिक,  पुलिस को इस बारे में शाम करीब 5 बजकर 20 मिनट पर सूचना मिली थी.पुलिस के मुताबिक बाघंबरी मठ में जहां महंत नरेंद्र गिरि का शव फंदे से लटकता मिला, वहां चारों तरफ से दरवाजे बंद थे. कमरे का मुख्य दरवाजा भी अंदर से बंद था. पुलिस ने शुरुआती जांच के आधार पर इसे आत्महत्या बताया है.

प्रयागराज पुलिस ने उनकी मौत को लेकर एक बयान जारी किया है. जिसमें कहा गया कि मौका-ए-वारदात से 6-7 पेज का सुसाइड नोट मिला है. बरामद किए गए सुसाइड नोट में महंत नरेंद्र गिरि ने आनंद गिरि और अन्य शिष्यों के नाम का उल्लेख किया है.