breaking news New

जगदलपुर में ‘‘नेशनल लोक अदालत’’ का आयोजन

जगदलपुर में ‘‘नेशनल लोक अदालत’’ का आयोजन

जगदलपुर। नेशनल लोक अदालत के संबंध में राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण, नई-दिल्ली एवं छग राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण, बिलासपुर के निर्देशानुसार  सुमन एक्का, जिला न्यायाधीश/अध्यक्ष, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, जगदलपुर के मार्गदर्शन में 14 मई दिन शनिवार को जिला बस्तर जगदलपुर में ‘‘नेशनल लोक अदालत’’ का आयोजन किया जा रहा है । 

उक्त आयोजित लोक अदालत में आपराधिक शमनीय प्रकरण, व्यवहार वाद के प्रकरण, मोटर दुर्घटना दावा के प्रकरण, धारा 138 निई एक्ट के प्रकरण, पारिवारिक विवाद के प्रकरण, श्रम विवाद के प्रकरण, राजस्व प्रकरण एवं अन्य राजीनामा योग्य प्रकरण के साथ-साथ राशि वसूली से संबंधित विवाद पूर्व प्रकरण (प्री-लिटिगेशन) का निराकरण किया जाना है ।

आयोजित नेशनल लोक अदालत में अधिक से अधिक प्रकरणों के निराकरण किया जाकर नेशनल लोक अदालत के आयोजन को सफल बनाए जाने हेतु   

सुमन एक्का, जिला न्यायाधीश/अध्यक्ष  द्वारा  13 अप्रैल दिन बुधवार को नेशनल लोक अदालत में अधिक से अधिक प्रकरणों के निराकरण कराये 

जाने हेतु जिला अधिवक्ता संघ जगदलपुर के लायब्रेरी कक्ष में जिला अधिवक्ता संघ के पदाधिकारियों के साथ-साथ दावा प्रकरणों के अधिवक्ताओं, धारा 138 एन.

आई.एक्ट के अधिवक्ताओं के साथ एक बैठक आयोजित किया गया, जिसमें अधिवक्ता संघ एवं अधिवक्ताओं से उक्त आयोजित नेशनल लोक अदालत की सफलता हेतु पक्षकारों को लोक अदालत की महत्ता बताते हुए उन्हें अपने प्रकरणों को राजीनामा के माध्यम से निराकृत किए जाने हेतु प्रोत्साहित करने का आग्रह किया गया। उक्त नेशनल लोक अदालत में अपना सहयोग एवं सहभागिता देते हुए अधिक से अधिक प्रकरणों को निराकृत कराने हेतु प्रेरित किया गया ।

जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की सचिव गीता बृज ने बताया कि आगामी नेशनल लोक अदालत के आयोजन के संबंध में इस जिले के आमजन को सूचित किए जाने के संबंध में आकाशवाणी के माध्यम से भी प्रचार-प्रसार किया जा रहा है, ताकि जिले के आमजन को नेशनल लोक अदालत के आयोजन की जानकारी प्राप्त हो सके और वे अपने प्रकरणों को सरल एवं शीघ्र रूप से निराकृत करवा सकें ।

जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की सचिव गीता बृज ने यह भी बताया कि आयोजित नेशनल लोक अदालत में पक्षकारों के मध्य सुलह समझौता एवं राजीनामा के आधार पर उनके मध्य उत्पन्न विवादों का समाधान किया जाएगा। जिसमें अधिक से अधिक नागरिक लाभान्वित होकर अपने मामलों का निराकरण करा सकेंगे । लोक अदालत लोगों को शीघ्र एवं सस्ता न्याय सुलभ कराने का एक सशक्त माध्यम तथा विवादों को आपसी समझौते के द्वारा सुलझाने के लिये एक वैकल्पिक मंच है ।