breaking news New

रिहायशी इलाकों से पकड़े गए 2650 विषैले सांप

 रिहायशी इलाकों से पकड़े गए 2650 विषैले सांप

कोरबा । छत्तीसगढ़ के नागलोक कहे जाने वाले तपकरा के साथ-साथ पांचवीं अनुसूची में शामिल कोरबा जिले में भी विषैले सांपों और अजगरों की उपस्थिति काफी  हद तक है। आवासीय क्षेत्रों से लेकर गैरेज और वर्कशॉप के अलावा वाहनों में छुपे ऐसे 2650 सांपों को रिकव्हर करने का काम स्नैक रेस्क्यू टीम कोरबा ने डायल 112 के सहयोग से किया है।

टीम से जुड़े जितेंद्र सारथी और सदस्यों ने आज वर्ष 2020 की सफ लता पर मीडिया से चर्चा की। उन्होंने बताया कि वर्ष 2020 में अब तक की स्थिति में टीम ने कोरबा शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में मैन पावर और संसाधन के दम पर बेहतर काम किया। पुख्ता नेटवर्क का लाभ यह रहा कि किसी भी स्थान पर सांप निकलने की सूचना मिलने पर अधिकतम 30 मिनट के भीतर उपस्थिति दर्ज कराई गई।

कहीं पर एक-दो सदस्यों तो कहीं ज्यादा कार्यबल के साथ सर्पों को पकडऩे का काम संभव किया गया। इनमें अधिकांश सर्प बेहद विषैले प्रजाति से संबंधित रहे। क्षेत्र में इस वर्ष के सबसे लंबाई वाले और वजनी अजगर को पकडऩे का काम भी इस टीम ने किया। जितेंद्र ने बताया कि खरमोरा क्षेत्र में कोबरा के अंडों के साथ उनके कई सदस्य थोक के हिसाब से मिले। सर्पों के बारे में आम लोगों को जागरूक करने का काम भी किया गया।