breaking news New

बिना कोविड-19 टीका लगे ही वैक्सीनेशन सेंटरों में शिक्षकों की लगा दी ड्यूटी

बिना कोविड-19 टीका लगे ही वैक्सीनेशन सेंटरों में शिक्षकों की लगा दी ड्यूटी


मालखरौदा ! भारत देश ही नहीं बल्कि पूरा विश्व  कोरोना महामारी की बढ़ते प्रकोप से जूझ रहा है इस दौरान आशा की नई किरण लेकर आई है भारत  की को वैक्सीन जिसे लगाने के लिए पूरे भारत में वैक्सीनेशन सेंटर बनाया गया है जहां पर 45 वर्ष या 45 वर्ष से अधिक उम्र वाले नागरिकों को वैक्सीन की डोज लगाई जा रही है, इस दौरान कोरोना वॉरियर के रूप में स्वास्थ्य कर्मियों मितानिन आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं और सहायक शिक्षक एलबी की ड्यूटी लगाई गई है बता दें कि इनमें स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं मैदानी नो एवं आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं को करुणा का टीका लगाया जा चुका है लेकिन इनके साथ काम कर रहे हैं सहायक शिक्षकों  को करुणा का टीका नहीं लगा है ऐसे में सवाल उठता है कि क्या इन शिक्षकों की जान की सरकार की नजरों में  कोई कीमत नहीं क्या इन्हें कभी कोरोना नहीं हो सकता या इनके घर परिवार वालों की कोई चिंता नहीं सरकार को इस ओर भी ध्यान देना चाहिए  क्योंकि 1 तारीख से 18 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को भी करुणा का टीका लगना है इसलिए भीड़ बहुत ज्यादा बढ़ जाएगी और संक्रमण होने का खतरा भी काफी बढ़ जाएगा इसलिए इसके पहले  प्राथमिकता के तौर पर उन सभी शिक्षकों को  भी तत्काल कोरोना का टीका लगाना चाहिए ताकि वे सुरक्षित रहें उनका परिवार सुरक्षित रहे और सरकार के वैक्सीनेशन कार्य में कदम से कदम मिलाते हुए अच्छे से अपना योगदान दे सकें।
 *बजरंग सिंह सिदार
सहायक शिक्षक एलबी शास.प्राथ.शाला सोनादुला*

  अनुविभागीय अधिकारी सक्ति के द्वारा 2 मार्च 2021 को आदेश जारी कर मेरे साथ साथ और अन्य 20 शिक्षकों की ड्यूटी विभिन्न वैक्सीनेशन सेंटरों  में लगाई गई है लेकिन हमें अभी तक कोरोना का टीका नहीं लगा है वैक्सीनेशन सेंटर में बहुत ज्यादा भीड़ बनी रहती है और हमें संक्रमण होने का काफी खतरा रहता है आखिर हमारा भी घर परिवार है हमारे भी बच्चे हैं आखिर कोरोना हमें भी हो सकता है इसलिए सरकार से निवेदन है कि हमें प्राथमिकता  वारियर के रूप में  कोरोना का टीका लगाया जाए।
 *टिकेश्वर  प्रसाद चन्द्रा
जनपद सदस्य मालखरौदा*  छत्तीसगढ़ के सरकार और स्वास्थ्य मंत्री से निवेदन है कि वैक्सीनेशन सेंटर में कार्य कर रहे उन सभी शिक्षकों को कुर्ला का टीका प्राथमिकता के रूप में लगाना चाहिए।