breaking news New

किसानों के मुद्दे पर विधायक चंदन कश्यप झूठा दिखावा कर रहे - जैकी कश्यप

किसानों के मुद्दे पर  विधायक चंदन कश्यप झूठा दिखावा कर रहे - जैकी कश्यप


नारायणपुर, 14 फरवरी। प्रदेश में बैठी कांग्रेस की सरकार अपने झुटे चुनावी घोषणा पत्र के दम पर आज सरकार में काबिज है जिसमें सबसे मुख्य रूप से अन्नदाता किसान भाइयों का प्रमुख योगदान रहा आज उनकी ही दशा दैनीय है किशानो के समर्थन में उनके हक के लिए जब प्रदेश भाजपा प्रवक्ता एवं पूर्व मंत्री केदार कश्यप द्वारा मांग किया गया उनका साथ दिया गया तो  नारायणपुर विधानसभा के वर्तमान विधायक चंदन कश्यप के द्वारा राजनीतिक द्वेष पूर्वक अर्नगल आरोपों की बरसात की गई जिसपर  भारतीय जनता युवा मोर्चा के नवनियुक्त जिलाध्यक्ष जैकी कश्यप ने जोरदार पलटवार करते हुए बयान जारी किया। पूर्व मंत्री श्री केदार कश्यप जी ने प्रदेश काॅग्रेस सरकार की दुखती नश पर केवल हाथ क्या रख दिये कि विधायक जी पुनः जनता को गुमराह करते हुए कश्यप परिवार पर बेमतलब के आरोप लगाने पर उतारू हो गए है।

  प्रदेश काॅग्रेस सरकार के घोसणा पत्र में जितनी बड़ी बातें की गई थी जिसके दम में जनता ने इनको इतना बहुमत दिया असल में वह एक जुमला साबित हुआ सिर्फ झुनझुना पकड़ाने का काम कांग्रेस ने किया है धान खरीदी की बात करे तो देखेंगे 2500 रुपये पर धान खरीदी का झूठा वादा करके केंद्र सरकार के घोषित न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) 1868 रुपये में धान की खरीदी की जा रही है और बाकी की अंतर की राशि की जब बात आती है तो गरीब किसानों को इंतजार करवाया जाता है। एवं आज तक प्रदेश के किसानों को पिछले वर्ष की अंतर की राशि भुगतान तक नहीं कर पाये ये लोग हैं। साथ ही साथ इनके मुख्यमंत्री जी का जब नारायणपुर विधानसभा में आगमन होता है तो देश का पहला जिला नारायणपुर है जहाँ एक दिन में गोभी उगाने के वर्ल्ड रिकॉर्ड भी यही के शासन प्रशासन के नाम होगा जो मुखिया को अंधकार में रख सकते है तो आप अंदाजा लगा सकते है उस सरकार को आम जन की कितनी चिंता होगी। हफ्ते भर पहले ट्रको में भर भर कर किसानों को बांटने वाला समान लाखो रुपये में कबाड़ियों को बेच दिया इस पर भी कुछ कह देते आखिर किसानों का मामला है इसके अलावा वन क्षेत्र में रहने वाले किसान भाइयों से समर्थन मूल्य पर भी उनकी पूरी फसल की खरीदी नहीं कि गई जिसके कारण मजबूरन उन्हें आढतियों को औने-पौने दाम पर अपनी मेहनत से उगाई गई फसल बेचनी पड़ी व उनपर डंडे बरसाये गए। इतना ही नहीं, छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकार के द्वारा धान की खरीदी तय समय से हटकर देर से प्रारंभ की गई, ताकि कम किसानों को अंतर की राशि का भुगतान करना पड़े। और अब दो वर्षों का बोनस की बात तो इन कांग्रेसियों की जुबान पर भी नहीं आती। बल्कि गरीब किसानों को परेशान करने में इन्होंने किसी प्रकार की कोई कमी तक नहीं रखी। बल्कि 55 वर्षों के शासनकाल से एक कदम आगे बढ़कर किसानों का गिरदावरी के नाम पर रकबा कम करना हो या फिर बारदाने उपलब्ध न करवाकर किसानों से उनकी फसल न खरीदना हो। ऐसी कुंठित मानसिकता से पता चलता है कि काॅग्रेसी नेताओं का कभी किसान कल्याण के प्रति नेक इरादा रहा ही नहीं है।

 आश्चर्य होता है कि, इनके विधायक चंदन कश्यप जिस तरह  किसानों के मुद्दे पर बोलने के लिए उकसा रहे हैं इससे ऐसा प्रतीत होता है कि, किसानों व प्रदेश की एक-एक जनता से इन्होंने जो वायदे किये थे उन्हें पूरे न कर पाने के कारण  दूसरों पर आरोप लगाने से बेहतर होता कि किसानों के लिए समर्पित भाव से काम करने में कांग्रेसी  मशगूल होते। खैर! गलत बयानबाजी में व्यस्त रहना  ही इनका कार्य है यह नारायणपुर विधानसभा की जनता भली-भांति समझ चुकी है। और  नारायणपुर क्षेत्र की जनता विधायक की असक्रियता, अकर्मणता, कार्य के प्रति जागरूकता की कमी भी परख चुकी है और आने वाले चुनावों के इंतज़ार में बैठी है। ताकि जनता अधिकारी कर्मचारी अपने साथ हुए छलावे का जवाब दे सके।