breaking news New

ध्रुव शुक्ल की कविताः बापू की याद

ध्रुव शुक्ल की कविताः बापू की याद

वृक्ष पर लिखे हैं 

कितने शब्द

जड़ तना डाली पत्ते

फूल और फल

नदी पर लिखा है जल

वायु पर बहता है प्राण


हवन-कुण्ड में आहूत

अनन्तदेव

आकाश से झरकर

पृथ्वी पर बिखरते हैं


देह पर लिख जाता है

नाम

गेह पर

धाम

समाधि पर

हे राम

धरती का नमक हैं किसान

Farmer painting by Narayan Shelke | ArtZolo.com | Farmer painting, Farm  paintings, Nature paintings

धरती का नमक हैं किसान

उनके आँसू हैं मूल्यवान 

उन्हें बचाना चाहिए गिरने से

सहेजना चाहिए अपने हृदय की

अञ्जुरी में