breaking news New

सिविल अस्पताल खैरागढ़ में नेत्रदान पखवाड़ा शुरू

 सिविल अस्पताल खैरागढ़ में नेत्रदान पखवाड़ा शुरू

नेत्र रोग के मरीजों को बांटे निःशुल्क चश्में और दवाइयां

राजनांदगांव। जीवन में आंख का महत्व बताते हुए लोगों को नेत्रदान के लिए प्रेरित करने के साथ-साथ आंखों में होने वाले रोगों के प्रति भी जागरुक करने हेतु जिले के खैरागढ़ स्थित सिविल अस्पताल में नेत्रदान पखवाड़ा शुरू किया गया है। यह पखवाड़ा 8 सितंबर तक मनाया जाएगा। इस दौरान आंखों की जांच की जाएगी तथा स्वास्थ्य कर्मचारी लोगों को आंखों की सुरक्षा से संबंधित महत्वपूर्ण जानकारियां देंगे। 

कलेक्टर एवं जिला अंधत्व नियंत्रण समिति राजनांदगांव के अध्यक्ष तारण प्रकाश सिन्हा के नेतृत्व, राजनांदगांव सीएमएचओ डॉ. मिथलेश चौधरी के मार्गदर्शन तथा जिला नोडल अधिकारी डॉ. एमके भुआर्य के निर्देशानुसार सिविल अस्पताल खैरागढ़ में नेत्रदान पखवाड़ा का शुभारंभ जिला पंचायत सदस्य विपल्व साहू ने किया। कार्यक्रम की शुरुआत में वरिष्ठ चिकित्सक डॉ. पीएस परिहार और डॉ. पंकज ने उपस्थितजनों को नेत्रदान विषय पर जरूरी जानकारी दी। नेत्रदान पखवाड़ा के अंतर्गत आयोजित नेत्र परीक्षण शिविर में स्वास्थ्य विभाग कर्मचारी दुर्गेश नंदिनी ने मरीजों का नेत्र परीक्षण किया। इस दौरान मोतियाबिंद के 10 मरीजों को ऑपरेशन हेतु मेडिकल कॉलेज रेफर किया गया तथा शेष मरीजों को उपचार से संबंधित आवश्यक परामर्श दिया गया। नेत्र परीक्षण उपरांत अतिथियों के द्वारा मरीजों को आवश्यकतानुसार चश्मा व दवाई का निःशुल्क वितरण किया गया। 

सिविल अस्पताल खैरागढ़ के वरिष्ठ चिकित्सक डॉ. पीएस परिहार ने उपस्थित जनसमुदाय से नेत्रदान के लिए भी पंजीयन करवाने की अपील की। उन्होंने कहा, सिविल अस्पताल में राष्ट्रीय नेत्रदान पखवाड़ा 25 अगस्त से 8 सितंबर तक मनाया जाएगा। इस अभियान का उद्देश्य लोगों में नेत्रदान के महत्व पर जागरूकता लाना तथा मृत्यु उपरांत अपनी आंखें दान करने के लिए प्रेरित करना है। इच्छुक लोग नेत्रदान के लिए जिला चिकित्सालय राजनांदगांव, मेडिकल कॉलेज पेंड्री, सिविल अस्पताल खैरागढ़, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र मरकामटोला, जालबांधा, बाजार अतरिया, मुढ़ीपार व पांडादाह के अस्पताल में संपर्क कर सकते हैं। राष्ट्रीय नेत्रदान पखवाड़े के दौरान जिला एवं ब्लाक स्तर पर नेत्र सहायक अधिकारियों व स्वास्थ्य विभाग की टीम द्वारा विद्यालय की छात्र-छात्राओं का भी निशुल्क नेत्र परीक्षण किया जाएगा। 

नेत्रदान मृत्यु के 6 घंटे के भीतर ही करें...

नेत्रदान पखवाड़ा कार्यक्रम को संबोधित करते हुए वरिष्ठ चिकित्सक डॉ. पंकज ने कहा, नेत्रदान मृत्यु के 6 घंटे के भीतर ही हो जाना चाहिए। नेत्रदान की सुविधा घर पर भी निःशुल्क दी जाती है। यदि किसी व्यक्ति के द्वारा जीवन में नेत्रदान की घोषणा न की गई हो, तब भी रिश्तेदार मृत व्यक्ति का नेत्रदान कर सकते हैं। नेत्रदाता को मृत्यु पूर्व एड्स, पीलिया, कर्करोग (कैंसर), रेबीज सेप्टीसीमिया टिटनेस, हेपेटाइटिस तथा सर्पदंश जैसी समस्या रही हो तो है तो उसे नेत्रदान के लिए अयोग्य माना जाता है। वहीं आंख का आपरेशन पश्चात तथा चश्मा पहनने वाले व्यक्ति भी नेत्रदान कर सकते हैं। मधुमेह (डायबिटीज) के मरीज भी नेत्रदान कर सकते हैं। 

कार्यक्रम में डॉ. संदीप भास्कर, डॉ. नेहा साहू, आकाश कन्नौजे, शेफाली सिंह, कमलेश साहू, संतोष देवांगन, श्रद्धा देवांगन, किरण वर्मा, प्रणय बंसोड़, खेमराज साहू, अभिषेक शर्मा, राजू भुआर्य, सोनिया सिंह व श्वेता सिंह सहित स्वास्थ्य विभाग के अन्य कर्मचारी उपस्थित थे।