breaking news New

हाथी प्रभावित क्षेत्र में वर्षों से बंद पड़ा है सोलर प्लांट लाइट, ग्रामीणों ने कहा- बिजली तो दिला दो साहब

हाथी प्रभावित क्षेत्र में वर्षों से बंद पड़ा है सोलर प्लांट लाइट, ग्रामीणों ने कहा- बिजली तो दिला दो साहब

चन्द्र प्रकाश साहू

सूरजपुर, 20 दिसंबर। जिले के ऊर्जा विभाग कमीशनखोरी में व्यस्त है। जिले के सभी विकाशखण्ड के ग्रामों में लगे सौर ऊर्जा प्लांट वारंटी परेड होने के बाद भी पूर्व क्रेडा प्रभारी अधिकारी केवल कमीशन खोरी में व्यस्त थे। ठेकेदार द्वारा कार्य ठीक से नही करने के बाद भी उन्हें ब्लेक लिस्ट नहीं किया गया बल्कि अधूरे कार्य को पूर्ण बताकर कागजों में ही मेंटेन्स कर दिया गया है। 

गौरतलब है कि ओड़गी जनपद क्षेत्र अंतर्गत ग्राम पंचायत उमझार के पश्चिम पारा में क्रेडा विभाग द्वारा 10 किलो वाट का विद्युत व्यवस्था हेतु सोलर पावर प्लांट स्थापना किया गया था जो कि 3 वर्ष पूर्व ही बैटरी बैंक खराब हो जाने के कारण प्लांट बंद पड़ा हुआ है।


वहीं लगभग 50 घरों में 3 साल से छाया हुआ है अंधेरा ग्रामीण लालटेन युग जीवन जीने के लिए मजबूर हैं छत्तीसगढ़ शासन के प्रमुख योजना सौभाग्य योजना के अंतर्गत हर घर में बिजली पहुंचाना है , लेकिन एक ऐसा ग्राम पंचायत है जहां लाइट ना होने के कारण जंगली जानवरों बच्चों की पढ़ाई एवं स्वास्थ्य व्यवस्था पूरे प्रभावित हो रहे हैं यहां आए दिन जंगली हाथियों का आना-जाना लगा रहता है जहां ग्रामीणों एवं बच्चों को हाथों से अंधेरे में कुछ अनहोनी ना हो जाए डर बना रहता है वही इस संबंध में सुधार हेतु पूर्व में ग्रामीणों ने जिला प्रशासन एवं क्रेडा विभाग के जिला अधिकारी संभागीय अधिकारी को मौखिक एवं लिखित में सूचना दे चुके हैं लेकिन आज दिनांक तक किसी भी प्रकार का सुधार हेतु कोई भी कार्यवाही नहीं किया गया सूरजपुर जिला मुख्यालय से दूरस्थ क्षेत्र ग्राम पंचायत उम्झर  120 किलोमीटर है। 

बतादें कि सभी क्षेत्र हाथी विचरण क्षेत्र है। जहां आय दिन हाथी आतंक मचाते रहते है। ऐसे में ठंडी होने के कारण भालू समेत अन्य जंगली जानवरों के आतंक से ग्रामीण परेशान हैं तो वहीं सौर ऊर्जा प्लांट 5 वर्षों से खराब पड़ी है। जिस कारण ग्रामीणों के अंधेरे में जीवन बसर करने को मजबूर है। 


चांदनी बिहारपुर क्षेत्र अंतर्गत लगभग दो दर्जन गांवों में विद्युत लाइट नहीं है खानापूर्ति के लिए सोलर पावर प्लांट लगाकर विद्युत व्यवस्था किया गया है लेकिन जो कि विभाग के अधिकारियों कर्मचारियों द्वारा देखरेख एवं रखरखाव कार्य ना करने की वजह से सोलर व्यवस्था ठप पड़ा हुआ है ग्रामीणों ने तत्काल जिला प्रशासन  से सोलर प्लांट  को सुधार कराने की मांग किये है।