breaking news New

आखिरी वनडे जीतकर टीम इंडिया ने बचाई अपनी इज्जत

आखिरी वनडे जीतकर  टीम इंडिया ने बचाई अपनी इज्जत

केनबरा ।  केनबरा में बुधवार को भारतीय टीम ने ऑस्ट्रेलिया को 13 रनों से मात दी, जिससे मेजबान टीम विराट ब्रिगेड का सीरीज में सूपड़ा साफ नहीं कर पाई. 303 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी ऑस्ट्रेलियाई टीम 49.3 ओवरों में 289 रनों पर सिमट गई. टीम इंडिया अपने रंग में लौटती नजर आ रही है, हालांकि उसे यह सीरीज गंवानी पड़ी. लेकिन अब टी20 में विराट ब्रिगेड आर-पार की जंग के लिए मैदान पर उतेरगी.

  .ऑस्ट्रेलिया ने यह सीरीज 2-1 से अपने नाम की. मैन ऑफ द मैच हार्दिक पंड्या रहे, जबकि मैन ऑफ द सीरीज स्टीव स्मिथ को मिला. अब 4 दिसंबर से तीन टी20 मैचों की सीरीज खेली जाएगी. इस जीत से टीम इंडिया का आत्मविश्वास जरूर लौटा है. और  पहला मुकाबला इसी केनबरा में होगा. इसके बाद 6 और 8 दिसंबर को सिडनी में मुकाबले होंगे। 

कप्तान एरॉन फिंच (75) के अलावा ग्लेन मैक्सवेल (59) की बल्लेबाजी ऑस्ट्रेलिया के लिए नाकाफी साबित हुई. जसप्रीत बुमराह (43 रन देकर 2 विकेट) ने खतरनाक हो रहे मैक्सवेल को बोल्ड कर टीम इंडिया को बड़ी राहत दिलाई.

शार्दुल ठाकुर ने 3 विकेट (51 रन देकर) चटकाए, जिसमें स्टीव स्मिथ का बेशकीमती विकेट भी शामिल है. डेब्यू मैच खेल रहे टी नटराजन ने 70 रन देकर 2 सफलताएं हासिल कीं.

ऑस्ट्रेलियाई टीम एक समय जीत की तरफ बढ़ती नजर आ रही थी, लेकिन 45वें ओवर में ग्लेन मैक्सवेल के आउट होने के बाद मैच उसकी जद से निकल गया. मैक्सवेल ने 38 गेंदों में 59 रन बनाए और वह ऑस्ट्रेलिया को क्लीन स्वीप की ओर ले जाते दिख रहे थे, लेकिन बुमराह ने शानदार यॉर्कर पर उन्हें पवेलियन भेजा. 

इससे पहले भारतीय टीम में चार बदलाव किए गए थे और गेंदबाजी आक्रमण बदला हुआ था. आईपीएल की खोज नटराजन ने अपने पहले ही स्पेल में मार्नस लाबुशेन (7) को आउट किया. वहीं मोहम्मद शमी की जगह आए शार्दुल ठाकुर ने पिछले दोनों मैचों में शतक जमाने वाले स्टीव स्मिथ (7) को विकेट के पीछे लपकवाया.

मोइजेस हेनरिक्स (22) और कप्तान एरॉन फिंच (75) ने 51 रनों की साझेदारी की, जिसे शार्दुल ने तोड़ा और हेनरिक्स को आउट किया. बीच के ओवरों में कुलदीप यादव ने किफायती गेंदबाजी की. उन्होंने पहला वनडे खेल रहे कैमरन ग्रीन (21) का विकेट भी लिया. मैक्सवेल और एलेक्स केरी ने इसके बाद डटकर खेला. ऐसा लग रहा था कि दोनों टीम को जीत तक ले जाएंगे, लेकिन कैरी अहम मौके पर रन आउट हो गए.

शानदार फॉर्म में चल रहे हार्दिक पंड्या ने एक बार फिर ‘संकटमोचक’ की भूमिका निभाते हुए ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ तीसरे और आखिरी वनडे में रवींद्र जडेजा के साथ साझेदारी कर टीम इंडिया को 5 विकेट पर 302 के स्कोर तक पहुंचाया. पंड्या ने 76 गेंद में नाबाद 92 रन बनाए, जबकि जडेजा 50 गेंदों में 66 रन बनाकर नाबाद रहे. 

दोनों ने भारतीय पारी को शुरुआती दबाव से निकाला. कप्तान विराट कोहली ने भी संघर्षपूर्ण अर्धशतक लगाया. पंड्या और जडेजा 32वें ओवर में साथ आए और छठे विकेट के लिए 150 रनों की अटूट साझेदारी कर खेल की तस्वीर बदल दी.

एक समय ऐसा लग रहा था कि भारतीय टीम 250 रन भी नहीं बना सकेगी, लेकिन जडेजा और पंड्या ने भारत को 300 के पार पहुंचाया.