breaking news New

परिवार से जुड़कर रहना सीख गए तो आप भी कहेंगे-नो टेंशन

परिवार से जुड़कर रहना सीख गए तो आप भी कहेंगे-नो टेंशन

तनाव प्रबंधन व लिंग समानता संवेदीकरण विषय पर हुई कार्यशाला 

पुलिस जवानों को बताए गए तनावमुक्त जिंदगी जीने के उपाय

राजनांदगांव। तनाव रहित जीवन तथा आत्महत्या की घटनाओं की रोकथाम के लिए जारी प्रयासों के अंतर्गत पुलिस जवानों को बताया गया किए तनावपूर्ण जीवनशैली के कितने नुकसान हो सकते हैं तथा तनावरहित जीवनशैली को अपनाकर जिंदगी को किस तरह खुशनुमा और हसीन बनाया जा सकता है। पुलिस जवानों को बताया गया किए तनाव मुक्त जीवन जीने का सबसे सरल रास्ता परिवार है। काम ज्यादा होने की वजह से हम परिवार को समय नहीं दे पाते हैं, जिससे तनाव और बढ़ता है, लेकिन इस तनाव को रोकना असंभव भी नहीं है।

पुलिस जवानों के लिए पुलिस विभाग द्वारा एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया। तनाव प्रबंधन व लिंग समानता संवेदीकरण विषय पर आयोजित कार्यशाला में दुर्ग रेंज आईजी विवेकानंद सिन्हा व मनोरोग विशेषज्ञ डा. प्रमोद गुप्ता मुख्य रूप से उपस्थित हुए। डा. गुप्ता ने पुलिस विभाग के अधिकारियों व कर्मचारियों को वर्क लोड बढ़ने से होने वाले तनाव को कम करने के उपाय बताए। उन्होंने कहा, तनाव मुक्त जीवन जीने का सबसे आसान रास्ता परिवार है। काम ज्यादा होने से हम परिवार को समय नहीं दे पाते हैं, जिससे तनाव और बढ़ता है। इसीलिए कोशिश हो कि, काम के बीच जो भी समय अपने लिए मिले, उसे परिवार के साथ बिताएं, ताकि खुद को सुकुन मिले। इससे परिवार के सदस्य भी खुश रहेंगे। इस खुशी को देख हमारा तनाव भी कम हो सकता है। तनाव के कारण हमें बीमारियों का भी सामना करना पड़ता है, लेकिन ऐसे तनाव को हमें परिवार को समय देकर खत्म करना होगा। इसके अलावा भी डा. गुप्ता ने पुलिस अधिकारियों व कर्मचारियों को कई तरह के गुर बताए। 

वहीं लिंग समानता संवेदीकरण के तहत कार्यशाला में महिलाओं के साथ घटित अपराधों की शिकायत पर काम करने की जानकारी दी। कार्यशाला में पहुंचे दुर्ग रेंज आइजी विवेकानंद सिन्हा ने कहा, आजकल की दौड़-भाग भरी जिंदगी में मानसिक तनाव एक ऐसी बीमारी है, जिससे हर एक व्यक्ति परेशान है। मानसिक तनाव लोगों पर इतना हावी हो चुका है कि, लोगों को मनोचिकित्सक का सहारा लेना पड़ रहा है। हालांकि, कुछ तरीके अपनाकर मानसिक तनाव पर काफी हद तक नियंत्रण किया जा सकता है। कार्यशाला के इस आयोजन से पुलिस के महिला व पुरुष कर्मियों को अपने काम को कुशलता से करने में मदद मिलेगी। कार्यशाला के जरिए अधिकारी व कर्मचारियों में बेहतर संदेश का संचार हुआ है। इसका लाभ उनके कार्यस्थल पर देखने को मिल सकता है। डॉक्टर द्वारा बताए उपाय जवानों के काम आएंगे। इस दौरान पुलिस अधीक्षक डी. श्रवण, एएसपी सुरेश चौबे व सभी थानों के अधिकारी और कर्मचारी मौजूद थे।

मानसिक तनाव दूर करने के प्रमुख उपाय

० मनोरोग चिकित्सक डा. प्रमोद गुप्ता ने बताया, व्यायाम मानसिक तनाव को दूर करने का अचूक उपाय है। नियमित रूप से 20 से 30 मिनट शारीरिक व्यायाम (चलना, दौड़ना या उठना-बैठना) करें। इससे दिमाग सही तरीके से काम करता है तथा शारीरिक समस्याएं भी दूर होती हैं। व्यायाम तनाव हार्मोन को नियंत्रित कर मानसिक स्थिति में सुधार लाता है।

० मेडिटेशन भी मानसिक तनाव दूर करने का सरल तरीका है।

० राहत भरा संगीत सुनने से भी मानसिक तनाव पर नियंत्रण किया जा सकता है।

० तनावपूर्ण दशा में पीड़ित काफी तेजी से या काफी छोटी सांसें लेता है, लेकिन तनावमुक्त रहने पर वह आराम से धीरे-धीरे सांस लेता है। यानी तनाव की स्थिति में पीड़ित को धीरे-धीरे और लंबी सांस लेने पर जोर देना चाहिए।

० तनाव से बचने के लिए अच्छी नींद लेना भी बहुत जरूरी है, क्योंकि इससे शरीर और मन को आराम मिलता है।

० तनाव यदि दैनिक जीवन को बहुत ज्यादा प्रभावित कर रहा है, तो पीड़ित को डॉक्टर की मदद लेनी चाहिए।