Corona. Bulletin : शब-ए-बारात घर में ही मनाएं, मस्जिदों और मजारों में ना जाने का आदेश जारी, इस्लामी कैलेंडर में इस रात को पवित्र माना गया है!

Corona. Bulletin : शब-ए-बारात घर में ही मनाएं, मस्जिदों और मजारों में ना जाने का आदेश जारी, इस्लामी कैलेंडर में इस रात को पवित्र माना गया है!

भारत में भी कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 4400 के पार हो चुकी है। कुछ चैनलों का कहना है कि अब तक 4789 मामले हुए हैं, इलाज करा रहे 353 और मौत हुई 124 की.

कोरोना वायरस की वजह से उत्तर प्रदेश के बाद अब कर्नाटक वक्फ बोर्ड ने भी शब-ए-बारात के मौके पर कब्रिस्तानों, दरगाह और मजारों से लोगों को दूर रखने का आदेश जारी किया है। मस्जिदों में भी लोगों के एकत्रित होने से रोकने का आदेश जारी किया गया है। इस बार शब-ए-बारात 8-9 अप्रैल की रात है। इस्लामी कैलेंडर में इस रात को पवित्र माना जाता है और इस मौके पर लोग मस्जिदों, दरगाहों, कब्रिस्तानों और मजारों पर इबादत करते हैं।

केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्यमंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने मंगलवार को मुस्लिम समुदाय से आह्वान किया कि कि 'शब-ए-बारात' के अवसर पर लोग लॉकडाउन और सामाजिक दूरी (सोशल डिस्टेंन्सिंग) के दिशानिर्देशों का पालन करते हुए अपने घरों पर ही इबादत करें। नकवी ने एक बयान में कहा कि देश के अधिकतर धर्म गुरूओं, धार्मिक-सामाजिक संगठनों ने शब-ए-बारात के दिन पूरी तरह से लॉकडाउन का ईमानदारी से पालन करने की अपील की है।

लाकडाउन बढ़ेगा क्या : महामारी कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों देखते हुए सरकार 14 अप्रैल को खत्म हो रहे लॉकडाउन को आगे बढ़ाने पर विचार कर रही है।   फिलहाल अभी एक हफ्ते का समय बाकी है, लेकिन लोगों के मन में सवाल है कि क्या लॉकडाउन बढ़ाया जाएगा या फिर 14 अप्रैल तक ही रहेगा। राज्य सरकारों और विशेषज्ञों ने केंद्र सरकार से लॉकडाउन को और आगे बढ़ाने की अपील की है।

दिल्ली के लोकनायक जयप्रकाश नारायण (एलएनजेपी) अस्पताल में 82 साल के बुजुर्ग ने कोरोना से जंग जीत ली है।

दुनिया में 200 से ज्यादा देश कोरोना महामारी से पीड़ित, इस पर लगाम    के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन बना रहा योजना  

देश के पीएम ने स्‍वीडन के प्रधानमंत्री स्‍टीफन लोफेन और ओमान के सुल्‍तान से आज फोन पर बात की। दोनों नेताओं से पीएम मोदी ने COVID-19 महामारी और इससे लड़ाई के उपायों पर चर्चा की।

लॉकडाउन के बाद अब तक देश में बेरोजगारी बढ़कर 23 फीसदी, जबकि शहरों में बेरोजगारी 31 फीसदी पहुंच गई है।   मार्च में पूरे महीने की बात की जाए तो बेरोजगारी दर पिछले 43 महीने के सबसे ऊंचे स्तर पर पहुंच गई।

भारतीय रेलवे ने अपनी पूरी ताकत और संसाधन लगा दिए हैं। इतने कम समय में उसने अपने 5,000 कोच को आइसोलेशन (एकांत) कोच में तब्दील करने के शुरुआती लक्ष्य में 2,500 कोच के साथ आधा लक्ष्य हासिल कर लिया है।

देश में 21 दिन के लिए लॉकडाउन से लोगों को तरह-तरह की समस्याएं हो रही हैं।  सबसे बड़ी मुसीबत उन परिवारों को उठानी पड़ रही है, जिनके घर किसी की मौत हो गई हो उनके घर में अर्थी को कंधा देने वाले भी नहीं मिल रहे। ऐसे में कहीं घर की औरतों को श्मशान जाकर खुद मुखाग्नि देनी पड़ रही है, तो कहीं महिलाएं खुद अपने घर से शव लेकर श्मशान जाने को विवश हैं।

महाराष्ट्र में कोरोना संक्रमितों की संख्या 1000 के पार, 64 लोगों की हुई मौत