breaking news New

राशन दुकान संचालक की मनमानी से उपभोक्ता परेशान, महीनो से अनिमियता का आलम

राशन दुकान संचालक की मनमानी से उपभोक्ता परेशान, महीनो से अनिमियता का आलम

मालखरौदा।  शासन ने क्षेत्र के राशन दुकानों का निरीक्षण करने व समय खुलने और बंद होने की निगरानी करने के लिए खाद्य निरीक्षक की ब्लॉक मुख्यालय में पदस्थापना किया है लेकिन खाद्य निरीक्षक ब्लॉक मुख्यालय में रहने की बजाए 20किलो मीटर दूर सक्ति से आना-जाना करते हैं जिसके कारण क्षेत्र के ग्राम पंचायत में संचालित शासकीय उचित मूल्य दुकानों का निरीक्षण नियमित नहीं हो पा रहा है जिसके कारण राशन दुकान संचालक मनमानी पूर्वक दुकान खोल एवं बंद कर रहे हैं इसकी वजह से क्षेत्र की उपभोक्ताओं को समय पर राशन नहीं मिल पा रहा है वहीं दो-तीन दिन राशन देने के बाद संचालक दुकान बंद कर दे रहे  जिसके कारण कोरोना काल में ग्रामीणों को उचित मूल्य दुकानों में अधिक राशि चुकाना पड़ा था  ब्लाक अंतर्गत आने वाले लगभग  60 पंचायतों मैं बायोमैट्रिक डिवाइस उपलब्ध कराया गया था 2018 लेकिन आज तक इनका उपयोग  राशन दुकान संचालकों द्वारा नहीं किया जा रहा है शासन ने पिछले महीने राशन दुकानों में सीसीटीवी कैमरा लगाने के लिए भी आदेश किया हुआ है लेकिन आज तक कितनी दुकानों में सीसीटीवी कैमरा लगा है इसकी जानकारी खाद्य निरीक्षक तक को नहीं है ऐसे में समझा जा सकता है इनके द्वारा क्षेत्र के शासकीय उचित मूल्य की दुकानों का निरीक्षण किस प्रकार किया जा रहा है जब से यह ब्लाक में पदस्थ हुए हैं तब से इन्होंने अपना मुख्यालय सक्ति को बना रखा है सोमवार को कभी कभार जनपद पंचायत पहुंच जाते हैं जबकि ज्यादातर समय सक्ति में ही रहते हैं। खाद्य निरीक्षक अजय प्रधान सप्ताह में 2 दिन ब्लॉक मुख्यालय में बैठता हूं कितने राशन दुकानों में सीसीटीवी कैमरा लगा है इसके बारे में जानकारी लेकर ही बता पाऊंगा ।                                     

उत्तरी कुर्रे, जनपद सदस्य 

खाद्य निरीक्षक के अलावा बहुत से अधिकारी है जो मुख्यालय में नहीं रहते इन पर कांग्रेस सरकार का नियंत्रण नहीं रह गया I  जिला खाद्य अधिकारी 

     अमृत कुजूर 

बायोमेट्रिक डिवाइस के द्वारा राशन  नहीं बांटने एवं सीसीटीवी कैमरा राशन दुकानों में नहीं लगाने के संबंध में जानकारी लिया जाएगा।