breaking news New

मंदिर हसौद क्षेत्रांतर्गत गायत्री ज्वेलर्स में हुये लाखों की नकबजनी का खुलासा, पश्चिम बंगाल के 2 अंतर्राज्यीय आरोपी गिरफ्तार

मंदिर हसौद क्षेत्रांतर्गत गायत्री ज्वेलर्स में हुये लाखों की नकबजनी का खुलासा, पश्चिम बंगाल के 2 अंतर्राज्यीय आरोपी गिरफ्तार

रायपुर, 26 नवंबर। प्रार्थी जगदीश सोनी ने थाना मंदिर हसौद में रिपोर्ट दर्ज कराया कि वह पवन विहार न्यू राजेन्द्र नगर रायपुर में रहता है एवं सोने चांदी के ज्वेलर्स का काम करता है। प्रार्थी का मंदिर हसौद मेन रोड चैक में गायत्री ज्वेलर्स नामक दुकान है। प्रार्थी दिनांक 26.10.20 को रात्रि करीबन 8 बजे दुकान बंद कर अपने घर रायपुर चला गया। 27 को दशहरा पर्व होने के कारण प्रार्थी दुकान नहीं खोला था। प्रार्थी के दुकान के बाजू के साहू ट्रेडर्स के मालिक प्रतीक साहू द्वारा प्रार्थी को सूचना दिया गया कि आपके एवं उसके दुकान के पीछे तरफ से कोई अज्ञात व्यक्ति द्वारा दीवार सेंध (होल) कर दिया है। तब प्रार्थी अपने दुकान आकर दुकान के अंदर जाकर देखा तो दुकान में रखा लगभग 17 किलोग्राम चांदी के विभिन्न प्रकार के जेवर एवं गिरवी रखें सोने चांदी के जेवरात नहीं थे। कोई अज्ञात चोर प्रार्थी के ज्वेलरी दुकान के पीछे का दीवाल में सेंधमारी कर अंदर प्रवेश कर सोने चांदी के जेवरात एवं दुकान में लगे सी.सी.टी.व्ही. कैमरा का डी.व्ही.आर. को चोरी कर ले गये। जिस पर अज्ञात आरोपियों के विरूद्ध थान मंदिर हसौद में अपराध क्रमांक 364/20 धारा 457, 380 भादवि. का अपराध पंजीबद्ध किया गया। 

  

ज्वेलरी दुकान में हुये नकबजनी के प्रकरण को गंभीरता से लेते हुये पुलिस उप महानिरीक्षक एवं वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक महोदय श्री अजय यादव द्वारा अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ग्रामीण श्री तारकेश्वर पटेल, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अपराध श्री अभिषेक माहेश्वरी, प्रभारी सायबर सेल श्री रमाकांत साहू एवं थाना प्रभारी मंदिर हसौद को अज्ञात आरोपियों की पतासाजी कर गिरफ्तार करने हेतु आवश्यक दिशा निर्देश दिये गये। जिस पर वरिष्ठ अधिकारियों के निर्देशन में सायबर सेल एवं थाना मंदिर हसौद की एक संयुक्त टीम का गठन कर अज्ञात आरोपियों की पतासाजी प्रारंभ की गई। टीम द्वारा घटना स्थल का निरीक्षण कर घटना के संबंध में प्रार्थी से विस्तृत पूछताछ करते हुये प्रार्थी के दुकान के बाजू में स्थित साहू टेªडर्स के मालिक प्रतीक साहू से भी घटना के संबंध में पूछताछ किया गया। टीम द्वारा प्रार्थी के ज्वेलरी दुकान में काम करने वाले कर्मचारियों से भी घटना के संबंध में पूछताछ करने के साथ ही पूर्व मंे प्रार्थी के दुकान में काम छोड़ चुके कर्मचारियों के संबंध में भी पतासाजी किया जाकर इनकी गतिविधियों पर सतत् निगाह रखंी जा रही थी। टीम द्वारा स्थानीय नकबजनी व चोरी के पुराने एवं हाल ही में जेल से रिहा हुये व्यक्तियों के संबंध में भी जानकारियां एकत्र की जाकर घटना स्थल के आसपास लगे सी.सी.टी.व्ही. कैमरों के फुटेजों को खंगाला जा रहा था। चूंकि आरोपी बड़े ही शातिर किस्म के थे जो अपनी पहचान छिपाने की नियत से ज्वेलरी दुकान में लगे सी.सी.टी.व्ही. कैमरे के डी.व्ही.आर. को अपने साथ ले गये थे। तरीका वारदात के आधार पर ऐसा प्रतीत हो रहा था कि घटना को किसी बाहरी गिरोह द्वारा अंजाम दिया गया है जिस पर टीम द्वारा बाहरी गिरोह को फोकस करना प्रारंभ किया गया। 

इसी दौरान टीम को जानकारी प्राप्त हुई कि नवा रायपुर में कन्स्ट्रक्शन का काम चल रहा है जिसमें काम करने वाले अधिकतर मजदूर पश्चिम बंगाल, झारखण्ड एवं अन्य बाहर के प्रांतों से आये है तथा अपनी रोजमर्रा की सामानों की खरीदी हेतु मंदिर हसौद आते है। जिस पर टीम द्वारा बाहर से आये काम करने वाले मजदूरों के संबंध में मुखबीर लगाया गवं तस्दीकी प्रारंभ किया गया। इसी दौरान टीम को सूचना प्राप्त हुई कि पश्चिम बंगाल एवं झारखण्ड से काम करने रायपुर आये कुछ मजदूर नहीं है जिनके संबंध में जानकारियां एकत्र की गई इसी दौरान टीम को मुखबीर से सूचना प्राप्त हुई कि एक व्यक्ति मुम्बई के एक ज्वेलरी दुकान में ज्वेलरी बिक्री करने हेतु आया था। जिस पर टीम द्वारा तकनीकी विश्लेषण कर अज्ञात आरोपियों को चिन्हांकित करने के प्रयास किये जा रहे थे। इसी दौरान टीम को आरोपियों के संबंध में महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त हुई तथा टीम द्वारा आरोपियों को चिन्हांकित करने के साथ ही उनकी वर्तमान उपस्थिति के संबंध में भी जानकारी प्राप्त हुई। प्राप्त जानकारियों के आधार पर टीम को पश्चिम बंगाल के जिला मालदा रवाना किया गया। मालदा (पश्चिम बंगाल) में कैम्प कर रही टीम ने आरोपियों के थाना मोथाबाड़ी क्षेत्रांतर्गत सकुल्लापुर कालोनी में निवास करने के संबंध में अहम सुराग प्राप्त किया। जिस पर टीम ने तत्काल बिना समय गंवाये आरोपियों के निवास स्थान में रेड कार्यवाही कर घटना में शामिल अंतर्राज्यीय आरोपी प्रभु चैधरी एवं कृष्णा मण्डल को गिरफ्तार किया गया। पूछताछ में आरोपियों द्वारा बताया गया कि ज्वेलरी दुकान में नकबजनी की घटना को 05 व्यक्तियों द्वारा अंजाम दिया गया था। जिसमें 03 व्यक्ति झारखण्ड के साहेबगंज के निवासी है। सभी आरोपी नवा रायपुर में कन्स्ट्रक्शन का काम करने हेतु रायपुर आये थे तथा नवा रायपुर में कन्स्ट्रक्शन का काम करने के दौरान ज्वेलरी दुकान का लगातार रेकी कर नकबजनी करने की योजना बनाये थे तथा आरोपियान दिनांक घटना को मौका पाकर मंदिर हसौद के मेन रोड स्थित उक्त ज्वेलरी दुकान में सेंधमारी कर नकबजनी की घटना को अंजाम दिये थे। आरोपियों ने पूछताछ में यह भी बताया कि यदि वे लोग उक्त नकबजनी की घटना में सफल नहीं होते तो रायपुर में डकैती करने की तैयारी भी किये थे। दोनों आरोपियों के कब्जे से चोरी की 06 किलो 300 ग्राम चांदी के जेवरात एवं 04 नग गिलट की मूर्तियां कुल वजनी 10 किलो 300 ग्राम जुमला कीमती लगभग छः लाख रूपये जप्त किया गया जाकर दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर ट्रांजिट रिमाण्ड में रायपुर लाया गया है। घटना में शामिल 3 आरोपी फरार है जिनकी लगातार पतासाजी कर गिरफ्तार करने के हर संभव प्रयास किये जा रहे है।