breaking news New

कांग्रेस शासित राज्य मांग रहे है कोविड टीके की बूस्टर डोज

 कांग्रेस शासित राज्य मांग रहे है कोविड टीके की बूस्टर डोज

नयी दिल्ली।  कोविड टीके की बूस्टर डोज के लिए जोर दे रहे कांग्रेस शासित राज्यों ने अपने प्रदेश में 90 प्रतिशत से कम पात्र आबादी को पहली खुराक और 50 प्रतिशत से कम दूसरी खुराक दी है जबकि भारतीय जनता पार्टी शासित राज्यों में यह आंकड़ा इसके उलट है।

एक सर्वेक्षण के अनुसार भाजपा शासित सात राज्यों में 90 प्रतिशत से ज्यादा पात्र आबादी को कोविड टीके की पहली खुराक मिल चुकी है और आठ राज्य अपने क्षेत्र में 50 प्रतिशत से अधिक पात्र आबादी को कोविड टीके की दूसरी खुराक दे चुके हैं। भाजपा शासित कई राज्य अपने क्षेत्र में शत-प्रतिशत पात्र आबादी को पहली खुराक दे चुके हैं।

आंकड़ों के अनुसार कांग्रेस एवं सहयोगी दलों द्वारा शासित राज्य झारखंड में कोविड टीके की पहली खुराक 66.2 प्रतिशत और दूसरी खुराक 30.8 प्रतिशत, पंजाब में पहली खुराक 72.5 प्रतिशत और दूसरी खुराक 32.8 प्रतिशत, तमिलनाडु में पहली खुराक 78.1 प्रतिशत और दूसरी खुराक 42.65 प्रतिशत, महाराष्ट्र में पहली खुराक 80.11 प्रतिशत और दूसरी 42.5 प्रतिशत, छत्तीसगढ़ में पहली खुराक 83.2 प्रतिशत और 47.2 प्रतिशत, राजस्थान में पहली खुराक 84.2 प्रतिशत और दूसरी खुराक 46.9 प्रतिशत और पश्चिम बंगाल में पहली खुराक प्रतिशत 84.2 प्रतिशत और दूसरी खुराक 39.4 प्रतिशत पात्र आबादी को दी गयी है।

आंकड़़ों में बताया गया है कि भाजपा शासित हिमाचल प्रदेश में कोविड टीके की पहली खुराक 100 प्रतिशत और दूसरी खुराक 91.9 प्रतिशत, गोवा में पहली खुराक 100 प्रतिशत और दूसरी खुराक 87.9 प्रतिशत, गुजरात में पहली खुराक 93.5 प्रतिशत और दूसरी खुराक 70.3 प्रतिशत, उत्तराखंड में पहली खुराक 93.0 प्रतिशत और दूसरी खुराक 61.7 प्रतिशत, मध्य प्रदेश में पहली खुराक 92.8 प्रतिशत और दूसरी खुराक 62.9 प्रतिशत, कर्नाटक में पहली खुराक में 90.9 प्रतिशत और दूसरी खुराक 59.1 प्रतिशत, हरियाणा में पहली खुराक 90.04 प्रतिशत और दूसरी खुराक 48.3 प्रतिशत,असम में पहली खुराक 88.9 प्रतिशत और दूसरी खुराक 50 प्रतिशत तथा त्रिपुरा में पहली खुराक 80.5 प्रतिशत और दूसरी खुराक 63.5 प्रतिशत पात्र आबादी को दी जा चुकी है।

विशेषज्ञों के अनुसार देश में बूस्टर डोज की अभी आवश्यकता नहीं है और शत-प्रतिशत आबादी को पहले कोविड टीके की दोनों खुराक दी जानी चाहिए।