breaking news New

उदंती सीतानदी क्षेत्र के 115 गांव के लगभग 4 हजार ग्रामीण अपनी 9 सूत्रीय मांगों को लेकर कलेक्ट्रेट के सामने धरने पर बैठे

उदंती सीतानदी क्षेत्र के 115 गांव के लगभग 4 हजार ग्रामीण अपनी 9 सूत्रीय मांगों को लेकर कलेक्ट्रेट के सामने धरने पर बैठे

2003 से क्षेत्र में तेंदूपत्ता संग्रहण बंद करने के चलते वन वासियों की आर्थिक स्थिति दिनों दिन बिगड़ती जा रही है जिसे पुनः चालू कराना प्रमुख माँग है
वन प्रबंधक समिति को वन संरक्षण संवर्धन की पूर्ण जिम्मेदारी सहित अन्य 8 मांगों को लेकर धरने पर बैठे आदिवासी 

गरियाबंद, 22 फरवरी। टाइगर रिजर्व क्षेत्र में वनोपज का संग्रहण नहीं कर पाने से बिगड़ते आर्थिक हालात से परेशान उदंती सीता नदी अभ्यारण क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले 115 गांव के लगभग 4 हजार ग्रामीण अपनी 9 सूत्रीय मांगों को लेकर आज जिला मुख्यालय पहुंचे हैं कलेक्टर को ज्ञापन देने कलेक्ट्रेट के सामने बैठकर धरना दे रहे हैं।


ग्रामीणों की 9 सूत्रीय माँग 

1.तेंदूपत्ता प्रति सैकड़ा ₹500 बूटा कटाई ₹400 बढ़ाया जाए ।

2.उदंती अभ्यारण टाइगर रिजर्व क्षेत्र में तेंदूपत्ता संग्रहण करने का अधिकार दिया जाय ।

3.गांव गांव में तेंदूपत्ता फ़ड़ी खुले एवं कार्ड बनाया जाए ।

4.मुंशी चेकर प्रबंधक बोरा भर्ती गांव के माध्यम से हो एवं वेतन बढ़ाया जाए ।

5.फड़ मुंशियों का मानदेय प्रति मानक बोरा 150 सौ रुपए एवं वनोपज क्रय-विक्रय तेंदूपत्ता फड़ मुंशियों को दिया जाए । 

6.तेंदूपत्ता संग्रहण, भुगतान, बोनस ,दुर्घटना का सही मुआवजा पंचायत में नगद भुगतान करने की सुविधा की जाय ।

7.तेंदूपत्ता संग्रहण करते समय जानवरों एवं अन्य कारणों से मृत्यु होने पर मुआवजा राशि 6 लाख 50 हज़ार घायल होने पर ₹4लाख 50 हाजर मामूली घायल होने पर ₹60 हजार दिया जाए।

8. वनों के संरक्षण संवर्धन की दिशा में प्रबंधक समिति को पूर्ण रूप से जिम्मेदारी दिया जाए ।

9.वन उपज का सही मूल्य बढ़ाया जाए ।