breaking news New

Sexuality: जानिए अपने बच्चों को Sexuality के बारे में किस उम्र में समझाएं और कैसे

Sexuality: जानिए अपने बच्चों को  Sexuality के बारे में किस उम्र में समझाएं और कैसे


DESK :  जब आप सेक्सुअलटी और री-प्रोडक्शन के बारे में बात करते हैं, तो आप इस बात के लिए श्योर होने चाहिए कि आप जो कह रही हैं वो आपके बच्चों को समझ आना चाहिए. चलिए यहां हम आपको गाइड करते है कि बच्चे अलग-अलग स्टेज पर क्या समझ सकते हैं.


1-अपने बच्चों से सेक्सुअलटी के बारे में बात करते समय, सुनिश्चित करें कि आप चीजों को इस तरह से समझाएं जो उनके विकास के लिए उपयुक्त हों.


2-आपको एक बार में सब कुछ समझाने की ज़रूरत नहीं है. यंग बच्चे सेक्सुलअटी संबंधित जानकारी के बजाय गर्भावस्था और शिशुओं में अधिक रुचि रखते हैं.


बच्चों को चीजें सरल तरीको से समझाएं


सेक्सुअलटी के बारे में बातचीत शुरू करना और जैसे-जैसे बच्चा बढ़ता है उससे उस बातचीत को जारी रखना, अच्छी सेक्स एजुकेशन रणनीति है. यह जब बच्चा किशोरावस्था में पहुंचता है तब पैरेंट्स को बिग टॉक देने से बचा सकता है. जब आप अपने बच्चों से सेक्स एजुकेशन को लेकर बात कर रहे हैं, तो चीजों को इस तरह से समझाना जरूरी है, जिसे आपका बच्चा उसकी उम्र और विकास के लेवल के मुताबिक समझ सके.


हर बच्चा अलग होता है, लेकिन यहां हम आपको बता रहे हैं कि बच्चों को अलग-अलग स्टेज पर कैसे सेक्सुअलटी और रीप्रोडेक्शन के बारे में बताना चाहिए.


टॉडलर्स 13-14 महीने


टॉडलर्स को प्राइवेट पार्ट्स  सहित शरीर के सभी पार्ट्स का नाम बताया जाना चाहिए. बॉडी पार्ट्स के लिए सही नामों का इस्तेमाल किए जाने से वे किसी भी हेल्थ इश्यू, चोटों या सेक्सुअल एब्यूज को को बेहतर ढंग से बता पाएंगे. यह उन्हें यह समझने में भी मदद करता है कि ये अंग किसी भी अन्य की तरह सामान्य हैं, जिससे उनमें आत्मविश्वास और पॉजिटिव बॉडी इमेज डेवलेप होती है.


ज्यादातर दो साल के बच्चे पुरुष और महिला के बीच के अंतर को जानते हैं, और आमतौर पर यह पता लगा सकते हैं कि कोई व्यक्ति पुरुष है या महिला है. उन्हें इस बात की सामान्य समझ होनी चाहिए कि किसी व्यक्ति के जेंडर की पहचान उनके प्राइवेट पार्ट्स से निर्धारित नहीं होती है और यह जेंडर आइडेंटेटी अलग-अलग तरीकों से व्यक्त किया जा सकता है. इस उम्र के बच्चों को बेड टच और गुड टच के बारे में बताया जा सकता है.


प्री स्कूल- 5 से आठ साल की उम्र के बच्चे


इस उम्र के बच्चो को आसानी से कोई भी बात समझाई जा सकती है. इस उम्र के बच्चे कई सवाल पूछते हैं आपको उनके हर सवाल का जवाब समझदारी से देना चाहिए. इस उम्र के बच्चों को एक बुनियादी समझ होनी चाहिए कि कुछ लोग हेट्रोसेक्सुअल, होमोसेक्सुअल या बायसेक्सुअल होते हैं, और यह है कि जेंडर एक्सप्रेशन की एक रेंज होती है. जेंडर किसी व्यक्ति के जननांगों द्वारा निर्धारित नहीं होता है. उन्हें यह भी पता होना चाहिए कि रिश्तों में सेक्सुअलटी की भूमिका क्या है


बच्चों को सिखाएं कि कंप्यूटर और मोबाइल डिवाइस का सुरक्षित उपयोग कैसे करें. इस उम्र के बच्चों को डिजिटल संदर्भ में प्राइवेसी, न्यूडिटी और दूसरों के प्रति सम्मान के बारे में सीखना शुरू कर देना चाहिए. उन्हें अजनबियों से बात करने और ऑनलाइन तस्वीरें साझा करने के नियमों के बारे में पता होना चाहिए और पता होना चाहिए कि अगर उन्हें कुछ ऐसा मिलता है जो उन्हें असहज करता है तो उन्हें क्या करना चाहिए.