breaking news New

निजी अस्पताल एंबुलेंस उपकरण चूक से हुई मौत के मामले में जांच अधिकारी ने थाने से मांगा FIR की कॉपी

निजी अस्पताल एंबुलेंस उपकरण चूक से हुई मौत के मामले में जांच अधिकारी ने थाने से मांगा FIR की कॉपी

जगदलपुर।  बस्तर अधिकार मुक्तिमोर्चा के मुख्य संयोजक नवनीत चांद, जिला संयोजक भरत कश्यप, व जिला संयोजक शोभा गंगोत्री संयुक्त नेतृत्व में विगत दिनों निजी अस्पताल द्वारा बीना उपकरण परिक्षण किये एंबुलेंस में वेंटिलेटर उपकरण के काम ना करने के कारण से जिले के लोहण्डीगुड़ा ब्लॉक ग्राम पंचायत गढ़िया के सेठिया परिवार की पुत्री गायत्री सेठिया की अस्पताल प्रबंधन के लापरवाही से हुई मौत पर मुक्तिमोर्चा के शिकायत के बाद जिला प्रशासन की संचालित न्यायिक जांच के दौरान आज मृतक परिवार के परिजनों ने अपना बयान पर दर्ज करवा अस्पताल प्रबंधन पर हत्या का मामला दर्ज करने की मांग की है।

उक्त विषय पर मुक्ति मोर्चा के संयोजक नवनीत चांद ने कहां कि घटना के कई दिन बीत जाने के बाद भी पुलिस प्रशासन द्वारा थाने में अस्पताल प्रबंधन के लापरवाही के खिलाफ अपराध पंजीबद्ध ना किया जाना गंभीर चिंता का विषय है, जिसे लेकर न्यायिक जांच अधिकारी के समक्ष अपराध पंजीबद्ध करने की मांग रखी गई, जिसके अंतर्गत न्यायिक जांच अधिकारी डिप्टी कलेक्टर गीता रायस्त के द्वारा संबंधित थाने से FIR काफी मांग की गई है।

 जो एक स्वागत योग्य कदम है मुक्ति मोर्चा बस्तर के जनता से अपील करता है कि स्वास्थ्य व्यवस्था की लापरवाही व चुक की वजह से दुर्भाग्य पुनः घटनाओं के खिलाफ ब्लाक व जिला स्तर पर आवाज उठाए शिकायत करें कारवाही कि मांग करें ताकि बस्तर के स्वास्थ्य व्यवस्था व्यस्तित व जिम्मेदार हो सके वहीं मुक्ति मोर्चा के जिला संयोजक भरत कश्यप व शहर अध्यक्ष सोभा गंगोत्री ने उक्त घटना पर दोषियों के खिलाफ प्रशासन द्वारा कड़ी कार्रवाई नहीं किए जाने पर आंदोलन करने की बात की।

इस दौरान मृतक के पिताजी लखेश्वर सेठिया व मुक्ति मोर्चा के शहर महामंत्री सुनिता दास, कोषाध्यक्ष अंकिता गुरूदत्वा,उपाध्यक्ष शनी राजपूत, शहर सचिव संगीता, केदार सेठिया, मोहन सेठी, छबिलाल सेठिया, बुधराम बघेल, लखेश्वर नाग, रतन बघेल,लछ्मन सेठी, राजकुमार सेठी, कृष्ण सेठिया,रतूराम सेठिया, युद्धस्टिर सेठिया, सोनारू मण्डावी, कांति सेठी, प्रमिला सेठी, कुंती नाग, नुरबती कश्यप, सुकदई कश्यप,दुलपती सेठिया, ब्लाक के विभिन्न पंचायतों के ग्रामवासियों आदि उपस्थित थे !