कोविड-19 से निपटने: फोर्टिस-ओपी जिंदल हॉस्पिटल भी 113 बिस्तर के साथ तैयार

कोविड-19 से निपटने: फोर्टिस-ओपी जिंदल हॉस्पिटल भी 113 बिस्तर के साथ तैयार

रायगढ़, 11 अप्रैल। पूरे विश्व में कोहराम मचा रही कोविड-19 से बचाव और उपचार के लिए  रायगढ़ एवं तमनार स्थित फोर्टिस-ओपी जिंदल हॉस्पिटल ने अपनी तैयारियां पूरी कर ली हैं। इन दोनों ही स्थानों पर आपातकालीन कुल 113 बिस्तरों की व्यवस्था की गई है और अत्याधुनिक उपकरणों की उपलब्धता सुनिश्चित करने के साथ-साथ पर्याप्त संख्या में अनुभवी डॉक्टर और सहयोगी स्वास्थ्य कर्मचारी तैनात किये गए हैं। कोविड-19 से निपटने के लिए उन्हें आधुनिक तकनीक के माध्यम से उत्तम प्रशिक्षण दिया जा रहा है।


गौरतलब है कि जिला प्रशासन ने रायगढ़ फोर्टिस-ओपी जिंदल हॉस्पिटल व तमनार फोर्टिस-ओपी जिंदल हॉस्पिटल को 3-3 आइसोलेशन बेड व 1-1 आईसीयू बेड  तैयार करने का आदेश दिया था। प्रशासनिक आदेश के अनुपालन में हॉस्पिटल के सीओओ डॉ (मेजर) राजेश्वर भाटी के निर्देशन में मार्च महीने में ही 16 आइसोलेशन वार्ड तथा 2-2 आईसीयू बिस्तर वयस्क व शिशु मरीजों के लिए तैयार कर लिये गए थे। इसके साथ ही हॉस्पिटल आने वाले प्रत्येक व्यक्ति की गेट पर ही थर्मल स्क्रीनिंग शुरू कर दी गई थी। सीओओ डॉ. राजेश्वर भाटी के अनुसार रायगढ़ अस्पताल में आपातकालीन इंतजाम भी किये गए हैं और कोविड-19 के लिए निर्धारित कुल 50 बिस्तरों में से 10 आईसीयू और 6 वेंटीलेटर के लिए तैयार किये गए हैं। इस रोग के मरीजों की देखभाल के लिए विशेष रूप से 10 डॉक्टर और 40 नर्सेज की तुरंत प्रभाव से तैनाती की गई है।

ड़ॉ. भाटी ने बताया कि अतिरिक्त बिस्तरों की आवश्यकता पड़ने पर जिन्दल स्टील एंड पावर लिमिटेड ने भी सभी सुविधाओं के साथ 33 बिस्तरों वाले आइसोलेशन वार्ड की व्यवस्था की है। उन्होंने कहा कि तमनार स्थित अस्पताल में भी 20 बिस्तरों के साथ चिकित्सा कर्मियों की तैनाती की गई है। वहां आपात स्थिति में जिन्दल पावर लिमिटेड ने 10 बिस्तरों वाले आइसोलेशन वार्ड की व्यवस्था की है। डॉ. भाटी ने कहा कि फोर्टिस-ओपी जिंदल हॉस्पिटल में पर्याप्त मात्रा में पीपीई, मास्क, सैनेटाइजर, वेंटिलेटर सुविधा व आइसोलेशन वार्ड उपलब्ध हैं और चिकित्सकों व सहयोगी स्वास्थ्य कर्मियों की अनुभवी टीम तैनात है।

उन्होंने बताया कि हॉस्पिटल के मेडिकल डायरेक्टर डॉ. अजय गुप्ता की निगरानी में  डॉक्टरों, नर्सेज, वार्ड ब्वायज और हाउसकीपिंग स्टाफ को कोविड-19 से संबंधित सभी लक्षणों की पहचान, नाक-कान-गला, फेफड़ा आदि की देखभाल का गहन प्रशिक्षण दिया जा रहा है, जिसमें वेबीनार, जूम जैसी आधुनिक संचार तकनीक की मदद ली जा रही है। इसी तरह क्लीनिंग स्टाफ को संक्रमण नियंत्रण (इन्फेक्शन कंट्रोल) तथा बायोमेडिकल वेस्ट सेग्रिगेशन की नियमित रूप से ट्रेनिंग दी जा रही है। डॉ. भाटी ने कहा कि फोर्टिस-ओपी जिंदल हॉस्पिटल, रायगढ़ और तमनार में 24 घंटे जनता की स्वास्थ्य सेवा के लिए प्रतिबद्ध है।