breaking news New

डबल स्टेक कंटेनर गाड़ी में ढाई हजार टन माल ढुलाई कर भारतीय रेल ने रचा इतिहास

डबल स्टेक कंटेनर गाड़ी में ढाई हजार टन माल ढुलाई कर भारतीय रेल ने रचा इतिहास

नयी दिल्ली।  भारतीय रेल के पश्चिमी समर्पित मालवहन गलियारे (डीएफसी) ने आज माल ढुलाई के क्षेत्र में इतिहास रच दिया। गुजरात के मुन्द्रा बंदरगाह से राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में आने वाले राजस्थान के काठूवास स्थित काॅनकोर के कंटेनर डिपो तक पहली बार ढाई हजार टन वजन वाली डबल स्टेक कंटेनर गाड़ी का ट्रायल रन सफलतापूर्वक किया गया।
भारतीय डीएफसी निगम लिमिटेड के अधिकारियों ने बताया कि 178 कंटेनर वाली डबल स्टेक मालगाड़ी का ट्रायल न्यू पालनपुर और न्यू किशनगंज के बीच ट्रैक पूरा बनने के बाद किया गया है। उन्होंने बताया कि ये कंटेनर फ्रांस, मैक्सिको, इटली, जापान, जर्मनी और संयुक्त अरब अमीरात से आये थे जिनमें ग्लिसिरीन, लकड़ी की लुगदी, बेस पेपर, एल्युमीनियम स्क्रैप, कलपुर्जे, सिलाई मशीन, पाॅलिस्टर के धागे आदि सामग्री थी जो पंजाब, असम और उत्तर प्रदेश जानी थी।
ये 2480 टन वजन वाली मालगाड़ी मुन्द्रा बंदरगाह से शनिवार को दिन में ढाई बजे रवाना हुई थी और न्यू पालनपुर से रविवार को सुबह सात बज कर पांच मिनट पर चली और शाम को काठूवास पहुंची।
पश्चिमी डीएफसी उत्तर प्रदेश के दादरी से मुंबई के जवाहरलाल नेहरु पोर्ट ट्रस्ट तक 1506 किलोमीटर लंबा है जिसका न्यू पालनपुर से हरियाणा के रेवाड़ी तक करीब साढ़े छह सौ किलोमीटर का खंड यातायात के लिए खोल दिया गया है। पूर्वी डीएफसी पंजाब के लुधियाना से पश्चिम बंगाल के दानकुनी तक 1875 किलोमीटर लंबा है जिसका करीब 353 किलोमीटर का भाऊपुर से खुर्जा का खंड यातायात के लिए खोला जा चुका है। दोनों डीएफसी जून 2022 तक बनाने का लक्ष्य रखा गया है।