breaking news New

विधानसभा झलकियां : अजय चंद्राकर का चैलेंज..खेती में नर.नारी का होथे बता..सुरक्षाकर्मी पर उखड़े सिंहदेव..सीएम ने याद दिलाई संसदीय पंरपरा..बृजमोहन ने कहा, अद्धा या पौवा..जानिए सदन के रोचक दृश्यों को

विधानसभा झलकियां : अजय चंद्राकर का चैलेंज..खेती में नर.नारी का होथे बता..सुरक्षाकर्मी पर उखड़े सिंहदेव..सीएम ने याद दिलाई संसदीय पंरपरा..बृजमोहन ने कहा, अद्धा या पौवा..जानिए सदन के रोचक दृश्यों को

अनिल द्विवेदी
रायपुर. छत्तीसगढ़ विधानसभा का मानसून सत्र की शुरूआत कल सोमवार से हुई. दिवंगत पूर्व विधायकों को श्रद्धांजलि देने के बाद विधायक बृहस्प​त सिंह के साथ हुए दुरव्यवहार को लेकर सत्ता और विपक्ष के बीच तीखी नोंकझोंक हुई जबकि दोपहर बाद किसान मुददे पर सदन गरमाया. विधानसभा अध्यक्ष डॉ.चरणदास महंत ने सदन की कार्रवाई का संचालन करते हुए खेती—किसानी से जुड़े मुददों पर स्थगन दिया और उस पर पक्ष—विपक्ष ने चर्चा की.


जानिए कि कल विधानसभा में क्या खास झलकियां रहीं..

विधायक बृहस्पत सिंह के साथ हुए दुरव्यवहार पर जब चर्चा चल रही थी तो नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने कहा कि मंत्री इस पर बयान कैसे दे सकते हैं, वे तो खुद आरोपी हैं. कौशिक के सामने बैठे सिंहदेव इसे चुपचाप सुनते रहे. सिंहदेव पर बृहस्पत सिंह ने आरोप लगाया है कि वे मुझे जान से मरवाना चाहते हैं! कौशिक ने कहा कि इस विवाद के बाद मुख्यमंत्री का पद भी विवाद के घेरे में है!

नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने यह भी कहा कि मंत्री और विधायकों के बीच असंतोष और संवादहीनता इस कदर बढ़ रही है कि अब वे चिटठी पत्री लिखकर अपनी नाराजगी जता रहे हैं!

मुख्यमंत्री ने याद दिलाया संसदीय परपंरा : भाजपा के विधायक जब बार—बार संसदीय परंपरा खण्डित होने की दुहाई बार.बार दे रहे थे तो मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से रहा नही गया. उन्होंने खड़े होकर ऐसे ऐसे तर्क दिए कि विपक्ष का मुंह सिल गया! कृषि मंत्री रविन्द्र चौबे ने विधायक बृजमोहन अग्रवाल को भी संसदीय परंपरा याद दिलाई!

रायपुर पश्चिम के विधायक विकास उपाध्याय आज तिलक लगाकर पण्डित की वेशभूषा धोती—कुर्ता—मोजी में पहुंचे थे. वे आकर्षण का केंद्र थे कि अचानक किसी ने टिप्पणी की : महाराज, मोजड़ी की जगह खड़ाउ होते त मजा आ जाथे.

विधायक बृजमोहन अग्रवाल जब बोल रहे थे तो उदयोग, आबकारी मंत्री कवासी लखमा उन्हें बार—बार टोक रहे थे. अचानक बृजमोहन अग्रवाल ने इशारे से कहा, 'ये हाथ हिलाकर क्या दिखा रहे हो अदधा या पौवा. इस पर सदन में हंसी छूट गई.

खेती किसानी के मुददे पर भी पक्ष—विपक्ष के विधायकों ने एक—दूसरे की खूब परीक्षा ली. खासकर विधायक अजय चंद्राकर ने कांग्रेस के शैलेष पाण्डे से पूछ लिया कि मोला बता दे के खेती के वकत नर—नारी का होथे. शैलेष ने हंसते हुए कहा अलग से मिलबे त बताहूं. बाद में कृषि मंत्री रवीन्द्र चौबे ने बताया कि 'जब रोपा होता है तो कई लाइन नर कहलाती हैं जबकि एक लाइन नारी' हालांकि ठहाकों के बीच यह अस्पष्ट सा लगा.

सीएम भूपेश बघेल और नेता प्रतिपक्ष धरम लाल कौशिक के बीच मीठी नोंकझोंक हुई. सीएम ने हंसते हुए कहा कि आज आपके विषय नही है तो इधर आ जाओ. मैं उधर आ जाता हूं.

कृषि मंत्री रवीन्द्र चौबे का यह बयान खूब प्रशंसा पाया कि केन्द्र में हमारी सरकार है. इसलिए बार—बार जाएंगे और अपना अधिकार मांगेगे. आप इसका बुरा क्यों मानते हैं!

उच्च शिक्षा मंत्री उमेश पटेल आज विधानसभा की केंटिन में विधायक नवीन जायसवाल और शैलेष पाण्डे के साथ भजिया खाते दिखे. यह उनकी सादगी का परिचायक था.

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम भी अपने कांग्रेस कार्यकर्ताओं और कुछ पत्रकार साथियों के साथ चाय पीते नजर आए. मरकाम ने खेती—किसानी पर बस्तर से जुड़े जिस विषय को रखा, उसने सबको प्रभावित किया. उनकी भाषण शैली की तारीफ होती रही.

उद्योग और आबकारी मंत्री कवासी लखमा आज फार्म में थे. उन्होंने विपक्ष के धारदार विधायकों को करारा जवाब दिया. ठेठ देसी अंदाज में उन्होंने कई बार भाजपा विधायकों को निरूत्तर किया. हालांकि उनकी बात पर सदन में ठहाके भी खूब गूंजे. एक पत्रकार की टिप्पणी थी : खादय मंत्री अमरजीत भगत की जगह आज कवासी ने ले रखी है!

सदन में अकेले पड़ गए सिंहदेव
विधायक बृहस्पत सिंह के दुरव्यवहार मुददे पर जब सदन गर्माया था तब स्वास्थ्य मंत्री टी एस सिंहदेव सदन से बाहर थे और विधानसभा के लॉन पर अकेले मोबाइल पर लगभग आधा घण्टा बात करते रहे. आज वे सदन में लगभग अलग थलग पड़ गए थे. विपक्ष भी विधायक बृहस्पत सिंह के साथ सहानुभूति दिखा रहा था और कांग्रेस विधायक भी उनके साथ नही थे. ऐसा लग रहा था मानो सारी सहानुभूति बृहस्पत सिंह के साथ थी.

हालांकि विधानसभा के बाहर आम जनता, पत्रकारों और सरकारी अफसरों के बीच स्वास्थ्य मंत्री टी एस सिंहदेव के व्यवहार के कायल दिखे. सभी का मानना था कि सरल—सुलभ सिंहदेव ऐसा कभी नही कर सकते. वे सिर्फ राजनीति के शिकार हो रहे हैं!

सुरक्षाकर्मी पर उखड़ गए स्वास्थ्य मंत्री

सीएम की सुरक्षा में लगे एक सुरक्षाकर्मी को स्वास्थ्य मंत्री सिंहदेव ने लताड़ दिया. दरअसल सिंहदेव मोबाइल पर किसी से बात कर रहे थे कि बात करते करते वे सीएम के काफिल के पास पहुंच गए. इस पर किसी सुरक्षाकर्मी ने उन्हें रोक दिया. इस पर सिंहदेव ने उसे लताड़ा और कहा कि मंत्री और प्रोटोकाल को जानते हो या नही!

अफसर.दीर्घा
विधानसभा परिसर में रायपुर के पुलिस कप्तान, एसएसपी अजय कुमार यादव और कलेक्टर आइएएस सौरव कुमार की जोड़ी चर्चा का विषय रही. सौरव कुमार आज ब्लेजर में पहुंचे थे और काफी जंच रहे थे. दूसरी ओर रायपुर जिले के आईजी, आइपीएस डॉ.आनंद छाबड़ा भी पुलिस अफसरों के साथ ठहाके लगाते दिखे. सदन के अंदर अफसर दीर्घा में मुख्य सचिव आइएएस अमिताभ जैन, आइएएस सुब्रह साहू, आइएएस सोनमणि बोरा, एम डी दीवान इत्यादि उपस्थित थे.