breaking news New

पाकिस्तान की ओर से हिंदू श्रद्धालुओं के चयन का भारत ने किया विरोध

पाकिस्तान की ओर से हिंदू श्रद्धालुओं के चयन का भारत ने किया विरोध

 आज वाघा बार्डर से रवाना होंगे 160 यात्री

नई दिल्ली। भारत ने पाकिस्तान हिंदू परिषद की ओर से खैबर-पख्तूनख्वा प्रांत में एक मंदिर के दर्शन के लिए चुनिंदा समूह को आमंत्रित करने के कदम का विरोध किया है। घटनाक्रम से जुड़े लोगों ने बताया कि भारत अब भारतीय आयोजकों की ओर से चुने गए 160 तीर्थयात्रियों को भेजेगा। पाकिस्तान हिंदू परिषद, पड़ोसी देश में अल्पसंख्यक समुदाय की एक शीर्ष संस्था, ने भारत, संयुक्त अरब अमीरात और अमेरिका के 250 हिंदुओं के एक समूह को परमहंस जी महाराज की समाधि पर जाने के लिए आमंत्रित किया था, जिनकी खैबर-पख्तूनख्वा के तेरी गांव में 1919 देहांत हो गया था।

दिसंबर 2020 में जमीयत उलेमा-ए-इस्लाम-फजल पार्टी के नेता के नेतृत्व में भीड़ द्वारा तोडफ़ोड़ के बाद सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश गुलजार अहमद के आदेश पर तेरी में मंदिर को पाकिस्तानी अधिकारियों फिर से बनवाया गया है। अहमद ने इस साल हिंदू अल्पसंख्यक के साथ एकजुटता व्यक्त करने और पाकिस्तान के अन्य हिस्सों से तीर्थयात्रियों का स्वागत करने के लिए मंदिर में दिवाली भी मनाई थी।

घटना से परिचित लोगों में एक ने कहा कि पाकिस्तान ने भारत के कुछ चुनिंदा लोगों को गैर-पारदर्शी तरीके से तेरी मंदिर की यात्रा के लिए आमंत्रित करने की योजना बनाई थी, लेकिन यह भारत के लिए मंजूर नहीं था क्योंकि यह उस भावना के विपरित था जिसके तहत दोनों पक्ष तीर्थयात्रा करते हैं। भारतीय आयोजकों की ओर से चुने गए लगभग 160 तीर्थयात्री शनिवार को वाघा-अटारी बॉर्डर के जरिए पाकिस्तान जाएंगे।