breaking news New

धर्मान्तरण गिरोह से जुड़े एक और आरोपी कानपुर से गिरफ्तार

 धर्मान्तरण गिरोह से जुड़े एक और आरोपी कानपुर से  गिरफ्तार

लखनऊ।  उत्तर प्रदेश के आतंकवाद निरोधक दस्ता (एटीएस) ने अवैध धर्मान्तरण कराने वाले गिरोह से जुड़े एक और आरोपी को आज कानपुर से गिरफ्तार कर लिया।

एटीएस प्रवक्ता ने यहां यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि इसी वर्षी 20 जून को एटीएस ने अवैध रुप से धर्मान्तरण करने वाले गिरोह के कुछ लोगो को गिरफ्तार किया था। इस संबंध में एटीएस के लखनऊ थाने में मामला दर्ज किया गया था । इस मामले की विवेचना के दौरान उत्तर प्रदेश के अतिरिक्त भारत के विभिन्न राज्यों से अब तक 14 गिरफ्तारियां की गयी ,जिनमें मौलाना उमर गौतम, मौलाना कलीम सिद्दीकी सहित महाराष्ट्र नेटवर्क के रामेश्वर कावड़े उर्फ आदम उर्फ़ एडम , भूप्रिय बन्दो उर्फ अर्सलान मुस्तफा , कौशर आलम आदि प्रमुख है ।

उन्होंने बताया कि विवेचना के दौरान संकलित साक्ष्यो के क्रम यह पाया गया कि यवतमाल महाराष्ट्र निवासी धीरज जगताप उर्फ़ धीरज देशमुख लगभग 10 वर्ष पूर्व इस्लाम अपनाने के बाद से दावा अर्थात धर्मांतरण की गतिविधियों में संलिप्त है, पिछले कई वर्षो से सह-अभियुक्त प्रसाद कांवरे उर्फ़ एडम, कौसर आलम तथा अर्सलान उर्फ़ भूप्रिय बिन्दो के साथ मिलकर दावा का कार्य कर रहा है।

प्रवक्ता ने बताया कि वह धर्मान्तरण की गतिविधियों को संचालित करने के लिए Revert, Rehab, and Dawah व्हाट्स ग्रुप बनाया है जिसके माध्यम से धार्मिक दुर्भावनाएं फैलाना, विभिन्न प्रकार के प्रलोभन देकर लोगो को इस्लाम में आने के लिए प्रेरित करने का काम करता था । उक्त ग्रुप पर अभियुक्त धीरज व अन्य अभियुक्त गणों के द्वारा कट्टरपंथी सन्देश शेयर किये जाने के सम्बन्ध में भी सूचनाएं प्राप्त हुई थी।

उन्होंने बताया गिरफ्तार धीरज, सह अभियुक्त फराज शाह के दावा ग्रुप इस्लामिक यूथ फेडरेशन जिसका मुख्य कार्य धर्मान्तरण की गतिविधियाँ संचालित करना है, का भी मुख्य सदस्य है । धीरज जगताप द्वारा धर्मान्तरण की गतिविधियां सह अभियुक्तों के साथ मिलकर बड़े पैमाने पर संचालित की जा रही है तथा आरोपी धीरज भी सह अभियुक्त उमर गौतम तथा कलीम सिद्दीकी के देश व्यापी नेटवर्क का सक्रिय सदस्य है।

प्रवक्ता ने बताया कि धीरज लोगो की सहायता करने के बहाने उन्हें लालच या भय दिखाकर धर्मान्तरण कराता था। धीरज, प्रकाश कांवरे के साथ मिलकर धर्मान्तरण करने वालो के अवैध दस्तावेज बनानें में भी मदद करता था जबकि प्रकाश कांवरे उन्हें लीगल करवाने के उद्द्येश्य से वकील भी उपलब्ध करवाता था । ऐसे भी तथ्य प्रकाश में आएं जहां धीरज ने नौकरी दिलाने का झांसा देकर भी लोगो का धर्मान्तरण करवाया है।

उन्होंने बताया कि अभियुक्तों का एक अन्य साथी धीरज जगताप को एटीएस की टीम ने कानपुर से हिरासत में लेकर पूछताछ की । पूछताछ में संदिग्ध प्रतीत होने पर धीरज को एटीएस की टीम लखनऊ लेकर आई जिसे पूछताछ के बाद गिरफ्तार कर लिया गया । अभियुक्त धीरज को कल 02 अक्टूबर को नियमानुसार न्यायालय के समक्ष प्रस्तुत कर अग्रिम

विधिक कार्रवाई की जाएगी ।