breaking news New

कस्तूरबा आश्रम सोनहत का आकस्मिक निरीक्षण

कस्तूरबा आश्रम सोनहत का आकस्मिक निरीक्षण

कोरिया। कलेक्टर श्याम धावड़े ने गत 01 अक्टूबर को सोनहत विकासखण्ड के अंतर्गत प्री-मैट्रिक आदिवासी कन्या आश्रम एवं छात्रावास रामगढ़ एवं कस्तूरबा आश्रम सोनहत का आकस्मिक निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान कलेक्टर के निर्देश पर सीईओ जिला पंचायत कुणाल दुदावत ने छात्रावास में दैनिक हाजिऱी रजिस्टर का अवलोकन किया। रजिस्टर संधारित एवं अद्यतन ना होने पर नाराजग़ी ज़ाहिर करते हुए कलेक्टर ने छात्रावास अधीक्षिका श्रीमती आशी कुजूर को कारण बताओ नोटिस जारी करने के निर्देश दिए। उन्होंने अन्य अधिकारियों द्वारा छात्रावास के निरीक्षण की जानकारी ली। अधीक्षिका ने बताया कि बीते सप्ताह मंडल संयोजक द्वारा आश्रम एवं छात्रावास का निरीक्षण किया गया था, किंतु उसकी टीप रजिस्टर पर नहीं अंकित की गई। यह जानकारी कलेक्टर के संज्ञान में आते ही उन्होंने मंडल संयोजक को भी कारण बताओ नोटिस जारी करने के निर्देश दिए।

निरीक्षण के दौरान कलेक्टर धावड़े ने बच्चियों से उनका कुशलक्षेम जाना। उन्होंने बच्चियों से छात्रावास में रहने एवं भोजन की जानकारी ली। कन्या आश्रम में कुल 39 बच्चियां हैं। कलेक्टर ने अधीक्षिका को कड़े निर्देश दिए कि परिजनों के निर्धारित मिलने के समय के बाद आश्रम में कोई प्रवेश नहीं करेगा। उन्होंने छात्रावास का निरीक्षण कर आवासीय व्यवस्था की भी जानकारी ली।

कस्तूरबा आश्रम सोनहत में भी कलेक्टर ने किया निरीक्षण

रामगढ़ के बाद कलेक्टर धावड़े और सीईओ जिला पंचायत दुदावत ने कस्तूरबा आश्रम सोनहत पहुंचकर रह रही बच्चियों से मुलाकात की और उनसे आश्रम में व्यवस्था के बारे में जानकारी ली। इस दौरान अधीक्षिका मिथिला पैंकरा ने पेयजल की समस्या से अवगत कराया। जिसपर कलेक्टर ने छात्रवास में पेयजल सुविधा उपलब्ध कराने एसडीएम सोनहत को निर्देश दिए। बच्चियों की हाजिरी भी ली गयी। कलेक्टर ने सीधे बच्चियों से बात करते हुए उनकी ज़रूरतों को जाना।  कलेक्टर ने अधीक्षिका को छात्रावास में कलेक्टर, सीईओ जिला पंचायत सहित जिला स्तरीय अधिकारियों के कांटेक्ट नंबर लिखे जाने के निर्देश भी दिए जिससे वे छात्रावास से संबंधित ज़रूरतों पर सीधे बात कर सकें। यहां भी कलेक्टर ने अधीक्षिका को निर्देश दिए कि परिजनों के निर्धारित मिलने के समय का कड़ाई से पालन करें। इस दौरान एसडीएम सोनहत प्रषांत कुषवाहा एवं संबंधित अधिकारी उपस्थित रहे।