breaking news New

राजनांदगांव : छत्तीसगढ़ सरकार पर बेबुनियाद आरोप ना लगाएं भाजपाई

राजनांदगांव :  छत्तीसगढ़ सरकार पर बेबुनियाद आरोप ना लगाएं भाजपाई

टीम घोटाला अफवाह फैलाने की नौटंकी बंद करें -कांग्रेस

 शिकायत विहीन भ्रमित कल्पना से बाहर आये भाजपाई- रुपेश दुबे

राजनांदगांव।  जिला कांग्रेस कमेटी राजनांदगांव के प्रवक्ता रूपेश दुबे ने नान घोटाला, धान घोटाला, राशन कार्ड घोटाला पीडीएस घोटाला से ओतप्रोत पूर्व सत्ताधारी भाजपा के प्रेस वार्ता एवं आगामी प्रदर्शनों को भाजपा की नौटंकी करार देते हुए कहा कि भाजपाई छत्तीसगढ़ सरकार पर बेबुनियाद आरोप ना लगाएं और अपने कार्यकाल  में हुए घपले घोटालों के साथ-साथ मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह के विधानसभा मुख्यालय राजनांदगांव के अपात्र राशन दुकान जो भाजपाई चला रहे उनपर कार्यवाही कराने का साहस करें।

 प्रवक्ता दुबे ने बताया कि जब से छत्तीसगढ़ में कांग्रेस के सरकार किसान की हीतैसी, ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूती प्रदान करने गोधन न्याय योजना, बच्चों को उत्कृष्ट शिक्षा के लिए अंग्रेजी माध्यम स्कूल खोलने की योजना और अब महिला समूहों के ऋण को माफ करने का साहसिक निर्णय लेकर राज्य में चौतरफा खुशहाली का वातावरण निर्मित कर दी है तो भाजपाइयों को विधवा विलाप करने के अलावा कोई विकल्प नहीं बचा है और वे आधारहीन आरोप लगाकर अपने आकाओं के इशारे पर कठपुतली की तरह नाच रहे हैं और केंद्र में बैठी भाजपा सरकार की असफलता से जनता का ध्यान भटकाने के लिए राज्य सरकार पर झूठा आरोप लगाकर अफवाह फैलाने का काम कर रहे हैं।

भाजपाई जिस गरीब कल्याण योजना की चावल की बात कर रहे हैं वह छत्तीसगढ़ सरकार के नेतृत्वकर्ता मुख्यमंत्री भूपेश बघेल  के कोरोना संक्रमण काल में आम जनता को निशुल्क चावल देने की घोषणा करने वाली देश की पहली सरकार है उसके बाद ही केंद्र सरकार लागू की है भाजपाई खाद के मामले में आंकड़े क्यो नही बताते कि छ ग सरकार ने जितना आबंटन मांग की उसका आधे से कम राज्य सरकार को भेज कर अफरातफरी का माहौल की साजिश केंद्र की भाजपा सरकार रची थी।जब पूरा देश और प्रदेश कोरोना के आग में झुलस रहा था तब केंद्र की भाजपा सरकार गरीबों की उज्ज्वला योजना गैस के दाम बढ़ाकर और अभी वर्तमान में भी कोरोना का माहौल है तब पूरे देश के किसानों को तीन काले कानून की आग में झूलसा कर आम जनता को महंगाई की मार दे रही है और इन्हीं सबसे ध्यान भटकाने के लिए भाजपा छत्तीसगढ़ सरकार पर निराधार आरोप लगाकर हितग्राही विहीन नौटंकी कर रहे हैं । भाजपाई अपने पूर्व मुख्यमंत्री डॉ साहब से पूछे कि जिला मुख्यालय राजनांदगांव में 32008 कुल परिवार होने जिसमें 22894 हजार बी पी एल होने के बाद 34 हजार से अधिक बी पी एल राशन कार्ड कैसे बनवाये थे।कैसे शहर के 26 राशन दुकान सरकारी जांच में अपात्र होने के बाद उनपर कार्यवाही नही कर उन्हें बचाते रहे क्योंकि वह दौर नान घोटाले का था।