breaking news New

भूखा शेर के पंजों से बचा ताकतवर यह इंसान

भूखा शेर के पंजों से बचा ताकतवर यह इंसान

दक्षिण अफ्रीका में बोट्सवाना के नेशनल ज्योग्राफिक सोसाइटी द्वारा फंडेड वाइल्ड बर्ड ट्रस्ट के आठ लोग इन जंगलों में वाइल्डलाइफ रिसर्च करने पहुंचे थे जिनमें से 32 साल के रिसर्चर गोट्स नीफ को अपने जीवन के सबसे मुश्किल पांच मिनटों का सामना करना पड़ा. खतरे का आभास होते देख उन्होंने जोर से अपने टेंट के अंदर से ही शेर की नाक पर मुक्का जड़ दिया. हालांकि शेर ने भी नीफ पर हमला कर दिया और उन्हें खाने के लिए पूरी ताकत से टूट पड़ा. 

 दक्षिण अफ्रीका के केपटाउन में रहने वाले डॉ वोन वाइल्ड बर्ड ट्रस्ट के रिसर्च डायरेक्टर हैं. वे नीफ की चीखें सुनकर फौरन उनके पास पहुंचे थे. इस घटना के बारे में बात करते हुए डॉ वोन ने कहा था कि मुझे नीफ की आवाज सुनकर लगा कि वो बहुत मुसीबत में है और मैं फौरन भागा. मेरे पास सिर्फ मेरी हेड टॉर्च थी और मैंने देखा कि मेरे सामने वो शेर नीफ के टेंट को उखाड़ने की कोशिश कर रहा था. 

डॉ वोन ने बताया कि हम दोनों ही चिल्ला रहे थे, इसके बाद मैं उस शेर के पास जाकर एक लकड़ी से हमला करने लगा लेकिन उस पर किसी भी तरह का असर नहीं हो रहा था क्योंकि ये शेर काफी भूखा था. इसके बाद हमारे हेड रेंजर ने इस शेर पर फ्लैश बैंगर फेंक कर मारा. फ्लैश बैंगर के चलते बहुत तेज आवाज होती थी और इससे कुछ सेकेंड्स के लिए जबरदस्त प्रकाश फैल जाता है. इसके चलते शेर की आंखें कुछ देर के लिए चौंधिया गईं.

उन्होंने आगे कहा कि मैं और हमारा हेड रेंजर दोनों लैंडक्रूजर गाड़ी में चढ़े और इस शेर पर गाड़ी चढ़ाने की कोशिश करने लगे. तीन-चार बार जब हम इस शेर के ऊपर गाड़ी चढ़ाकर इसे डराने की कोशिश कर रहे थे तब जाकर इसने नीफ को छोड़ा और वो जंगल में भाग गया. इस हमले के बाद नीफ को फौरन अस्पताल ले जाया गया. उन्हें शेर के नुकीले दांतों के चलते 16 जगह घाव आए हैं. इसके अलावा उनके हाथ की और कोहनी की हड्डी भी टूट गई है हालांकि नीफ इस हमले से धीरे-धीरे रिकवर हो रहे हैं.