breaking news New

बेसहारा डिम्पल का सहारा बने महापौर निर्मल कोसरे

बेसहारा डिम्पल का सहारा बने महापौर निर्मल कोसरे

   "Ramesh gupta "     

महज 10 दिन के भीतर ली फिर एक बच्ची के पढ़ाई की जिम्मेदारी               

भिलाई-3 .. ईमली बगीचा पारा भिलाई-3 की मासूम बच्ची डिम्पल सोनी अब 12 वीं तक की पढ़ाई बिना किसी अड़चन के पूरी कर लेगी। भिलाई - चरोदा नगर निगम के महापौर निर्मल कोसरे इस बेसहारा बच्ची का सहारा बने हैं। महापौर ने डिम्पल का शासकीय जनता स्वामी आत्मानंद उत्कृष्ट अंग्रेजी माध्यम स्कूल में प्रवेश दिलाकर 12 वीं कक्षा तक लगने वाले शिक्षा के खर्च को वहन करने का संकल्प लिया है। महज 10 दिन के भीतर यह दूसरा मौका है जब महापौर ने किसी बेसहारा बच्ची के पढ़ाई की जिम्मेदारी ली है।

          महापौर निर्मल कोसरे की मुलाकात वार्ड क्रमांक 8 महामाया पारा भिलाई-3 के ईमली बगीचा पारा निवासी 11 वर्षिया डिम्पल सोनी से शासकीय जनता स्वामी आत्मानंद उत्कृष्ट अंग्रेजी माध्यम स्कूल में हुई। इस स्कूल में प्रवेश के लिए लॉटरी की प्रक्रिया में शामिल होने महापौर पहुंचे थे। तभी डिम्पल सोनी रोते हुए महापौर के करीब पहुंची तो उन्होंने प्यार और स्नेह के साथ रोने की वजह पूछी। डिम्पल ने जो बताया उससे महापौर निर्मल कोसरे का मन मस्तिष्क द्रवित हो उठा।

        दरअसल, डिम्पल की मां का विगत दिनों ब्लड कैंसर से निधन हो चुका है। जब वह छोटी थी तभी उसके पिता पिता भूपेंद्र सोनी अचानक कहीं चले गए तो फिर दुबारा घर नहीं लौटे। इस तरह कम उम्र में ही माता पिता के छत्रछाया से वंचित हो चुकी डिम्पल अपने भविष्य को लेकर सशंकित है। वह पढ़ लिखकर अपना भविष्य गढ़ना चाहती है। लेकिन माता पिता के नहीं रहने से उसके मन में अपनी पढ़ाई को लेकर रह रहकर सवाल उभरते हैं। इन्हीं सवालों का उत्तर नहीं मिलने से महापौर को देख उसके आंसू फूट पड़े।

         महापौर निर्मल कोसरे ने मासूम डिम्पल को भरोसा दिलाया कि वे 12 वीं तक पढ़ाई का जिम्मा हर हाल में उठाएंगे। इस दौरान उपस्थित जनसमुदाय ने महापौर की सहृदयता के लिए उन्हें साधुवाद दिया है। उल्लेखनीय है कि हाल ही में महापौर निर्मल कोसरे ने एमआईसी सदस्य एस. वेंकट रमना के सहयोग से देवबलोदा की बेसहारा बच्ची 4 साल की प्रतिज्ञा यादव को ज्योति विद्यालय चरोदा में प्रवेश दिलाकर 12 वीं तक की पढ़ाई का खर्च उठाने की घोषणा की है।