breaking news New

आरटीई के तहत रायपुर के निजी स्कूलों में प्रवेश के लिए करीब साढ़े आठ हजार सीटें आरक्षित

आरटीई के तहत रायपुर के निजी स्कूलों में प्रवेश के लिए करीब साढ़े आठ हजार सीटें आरक्षित

 रायपुर।  शिक्षा सत्र 2020-21 के तहत तीसरे चरण में प्रवेश होने की संभावना कम है। जनवरी के पहले सप्ताह तक यह पता चल जाएगा कि इस साल आरटीई की कुल कितनी सीटें थी। 

शिक्षा का अधिकार (आरटीई) की सीटें खाली भी रहती है तब भी प्रवेश के लिए फिर से आवेदन की संभावना कम है। क्योंकि, इस बार एडमिशन की प्रक्रिया ही धीमी है। दूसरे चरण के तहत प्रवेश की प्रक्रिया अब तक चल रही है। अभी यह कुछ दिन और चलेगी। 

इस तरह से शिक्षा सत्र 2020-21 के तहत तीसरे चरण में प्रवेश होने की संभावना कम है। अफसरों का कहना है कि दूसरे चरण में जिन्हें सीटें आबंटित की गई उन्होंने प्रवेश लिया कि इसकी जानकारी ली जा रही है। 

जनवरी के पहले सप्ताह तक यह पता चल जाएगा कि इस साल आरटीई की कुल कितनी सीटें थी। कितनी सीटों में प्रवेश हुआ। इसके बाद आरटीई से संबंधित निर्देश जारी हो सकते हैं।

 गौरतलब है कि आरटीई से निजी स्कूलों में प्रवेश की प्रक्रिया अब भी चल रही है। रायपुर जिले के निजी स्कूलों में एडमिशन के लिए दूसरे चरण में कुल 1520 सीटें बांटी गई थी। इसके तहत प्रवेश की प्रक्रिया अभी खत्म नहीं हुई है। इसलिए यह चरण ही संबंधित सत्र में प्रवेश के लिए आखिरी माना जा रहा है। 

शिक्षाविदों का कहना है कि सीटें खाली भी रहती है तो संबंधित सत्र के लिए फिर से प्रवेश होने की संभावना कम है। क्योंकि, नए साल में फिर नए सत्र यानी 2021-22 के अनुसार तैयारी शुरू होगी। 

गौरतलब है कि इस साल के लिए रायपुर के निजी स्कूलों में प्रवेश के लिए करीब साढ़े आठ हजार सीटें आरक्षित की गई।