breaking news New

कलेक्टर विवाद : केन्द्रीय राज्य मंत्री रेणुका सिंह भी विवाद में कूदी..दिया बयान..उधर पीड़ित युवक को कलेक्टर ने बंगले में बुलाकर नया मोबाइल दिया..युवक ने कहा कि मैं संतुष्ट हूं कोई परेशानी नही..

कलेक्टर विवाद : केन्द्रीय राज्य मंत्री रेणुका सिंह भी विवाद में कूदी..दिया बयान..उधर पीड़ित युवक को कलेक्टर ने बंगले में बुलाकर नया मोबाइल दिया..युवक ने कहा कि मैं संतुष्ट हूं कोई परेशानी नही..

जनधारा समाचार
सूरजपुर. कलेक्टर द्वारा एक युवक के साथ मारपीट करने तथा मोबाइल तोड़ने का विवाद अब शांत होता दिख रहा है. मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के निर्देश के बाद कलेक्टर रणबीर शर्मा ने आज पीड़ित युवक को बंगले में बुलाया और उसे नया मोबाइल दिया.

इसके बाद पीड़ित युवक ने मीडिया से बातचीत में कहा कि मैं पूरी कार्यवाही से संतुष्ट हूं. मेरे साथ थोड़ा अन्याय हुआ था. कलेक्टर से बातचीत हुई है. नया मोबाइल भी मुझे मिल गया है. प्रशासन ने जो कदम उठाया, उससे मैं संतुष्ट हूं. युवक ने मीडिया को अपना नया मोबाइल भी दिखाया. अब मुझे कोई परेशानी नही है.

जानते चलें कि कलेक्टर रणबीर शर्मा का एक युवक को थप्पड़ मारने का वीडियो वायरल होने के बाद उन्हें हटा दिया गया है. सीएम भूपेश बघेल ने रविवार की सुबह ट्वीट कर इस बात की जानकारी दी. वहीं, रणबीर शर्मा को मंत्रालय में संयुक्त सचिव के पद पर भेजा दिया गया है. हालांकि इस कार्रवाई के बाद भी सवाल उठ रहे हैं कि उन्हें निलंबित क्यों नहीं किया गया केवल जिलाधिकारी पद से ही क्यों हटाया गया.

आदिवासी नेत्री व केन्द्रीय राज्य मंत्री रेणुका सिंह ने ट्वीट कर लिखा है, 'जनता की सेवा के लिए नियुक्त भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी रणबीर शर्मा का यह कृत्य अवैधानिक तथा सीसीएस केन्द्रीय सिविल सेवाएं (आचरण) नियमावली,1964 की अवहेलना है. अत: मुख्यमंत्री को छत्तीसगढ़ की जनता के स्वाभिमान के लिए रणबीर शर्मा को तत्काल निलम्बित करना चाहिए'

दरअसल, सूरजपुर के भैयाथान चौक पर लॉकडाउन का पालन कराने के लिए शनिवार यानी, 22 मई को खुद कलेक्टर रणबीर शर्मा सड़क पर उतरे थे. इस दौरान उन्होंने घर से बाहर निकले एक युवक को थप्पड़ मारा और उसका फोन भी तोड़ दिया. अपने इस कृत्य के लिए वह सोशल मीडिया पर लोगों के निशाने पर हैं.