breaking news New

कमला कॉलेज में यंग इनवेस्टर्स अवेयरनेस वेबीनार का आयोजन

कमला कॉलेज में यंग इनवेस्टर्स अवेयरनेस वेबीनार का आयोजन

राजनांदगांव, 13 जून। शासकीय कमलादेवी राठी स्नातकोत्तर महिला महाविद्यालय राजनांदगांव में वाणिज्य विभाग द्वारा भावी निवेशकों के रूप में छात्राओं में जागरूकता लाने हेतु बाम्बे स्टॉक एक्सचेंज के मुख्य वक्ता एवं फाइनेंसियल एजुकेशन ट्रेनर एनआईएसएम जफरूद्दीन एवं शकुंतला पारेख का ऑनलाईन व्याख्यान 11 जून 2021 को आयोजित किया गया। महाविद्यालय की प्राचार्य डॉ. सुमन सिंह बघेल की अध्यक्षता में कार्यक्रम का सफल आयोजन किया गया। प्राचार्य ने छात्राओं को बताया कि वर्तमान में विनियोग करने हेतु बहुत सी संस्थाएं एवं योजनाएं है, वे भविष्य में विनियोग करते समय सावधानी रखे एवं योजना से पूर्ण संतुष्ट होकर ही निवेश करने को कहा। 

बाम्बे स्टॉक एक्सचेंज के मुख्य वक्ता शकुंतला पारेख ने बाम्बे स्टॉक एक्सचेंज का प्रारंभ चार लोगों के द्वारा किया गया व वर्तमान में यह एशिया के दस बड़े स्टॉक एक्सचेंज में शामिल है, और इसकी उपयोगिता को बताया। उन्होंने छात्राओं को कहा कि एक ही दिन में कोई धनवान नहीं हो जाता है, अनावश्यक व्ययों को कम करके छोटी-छोटी बचतों के द्वारा बड़ी पूंजी तैयार की जा सकती है। उन्होंने छात्राओं को परंपरागत निवेश जैसे बहुमूल्य धातुओं में निवेश, बैंक में जमा और वर्तमान में स्टॉक एक्सचेंज के माध्यम से बॉंण्ड, शेयर, म्यूचल फंड के बारे में बताया। उन्होंने छात्राओं को स्मार्ट निवेशक बनने को कहा कि वे उद्देश्य निर्धारित कर एक निश्चित अवधि हेतु अपने निवेश की पूर्व योजना तैयार कर ही निवेश करें।   

बाम्बे स्टॉक एक्सचेंज के मुख्य वक्ता जफरूद्दीन ने छात्राओं को बैंक जमा में मिलने वाले ब्याज दर में निरंतर कमी के चलते अधिक आय प्राप्त करने हेतु म्यूचल फंड, स्टॉक एक्सचेंज के माध्यम से बॉंण्ड, शेयर में जमा करने हेतु प्रेरित किया। उन्होंने बताया कि म्यूचल फंड आरबीआई द्वारा निगमित व सेबी के द्वारा पर्यवेक्षित किया जाता है। उन्होंने बताया कि म्यूचल फंड में जनता से प्राप्त राशियों को फंड मैनेजर के द्वारा केन्द्र व राज्य सरकार की प्रतिभूति एवं स्टॉक एक्सचेंज में सूचीकृत कंपनियों में थोड़ा-थोड़ा निवेश किया जाता है। फंड मैनेजर के द्वारा शासकीय नियमों पॉलिसी एवं वर्तमान परिस्थितियों को ध्यान रखकर फंड जमा करने का निर्णय लिया जाता है, ताकि विनियोगकर्ता की आय पर अधिकतम प्रत्याय प्राप्त हो सके। 

उन्होंने छात्राओं को डीमेट एकाउंट, पीपीएफ जमा, सुकन्या समृद्धि योजना के संबंध में न्यूनतम जमा राशि, समयावधि व खाता खोलने की प्रक्रिया के बारे में जानकारी दी। छात्राओं को कुछ योजनाओं जैसे-चिटफंड आदि में विनियोग करने से बचने हेतु प्रेरित किया। कार्यक्रम का संचालन एवं धन्यवाद ज्ञापन डॉ. लाली शर्मा सहायक प्रध्यापक वाणिज्य ने किया।