breaking news New

मनेंद्रगढ़ सरकारी अस्पताल के कुत्ता कांड पर सी एम एच ओ शर्मा द्वारा दिया गया बेतुका जवाब

मनेंद्रगढ़ सरकारी अस्पताल के कुत्ता कांड पर सी एम एच ओ शर्मा द्वारा दिया गया बेतुका जवाब


कोरिया।  जिले के मनेंद्रगढ़ सरकारी अस्पताल के प्रसव कक्ष से 26 तारीख की रात एक नवजात शिशु के शव को कुत्ता उठाकर बाहर ले आया था। मानवता को शर्मसार करने वाली इस बड़ी लापरवाही पर जांच करने पहुंचे मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ रामेश्वर शर्मा द्वारा पहले तो करीब चार घंटे अस्पताल की जांच प्रक्रिया में गुजार दिया गया।

बाद में जब इस प्रक्रिया से बाहर निकले तो मीडिया से मुलाक़ात करते हुए,कुत्ता कांड, पर जो उन्होंने तर्क दिया वो काफी गैरजिम्मेदाराना रहा,उन्होंने मनेंद्रगढ़ के अस्पताल को छोटा कहकर बेहद लापरवाह अंदाज में कह दिया की डिलीवरी रूम खुला रहा होगा और कुत्ता शव को उठा लाया होगा।

जनाब सी एम एच ओ साहब,,अस्पताल छोटा है अच्छा हुआ आपने सरकार को याद दिला दिया,,

आपको बता दें कि बेतुकी बातों और नित नए सुर्खियों के आदतन कोरिया जिले के मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ रामेश्वर शर्मा द्वारा ये पहला वाक्या नहीं है जिसे इन्होंने मनेंद्रगढ़ में दोहराया है।   

बखेड़े खड़े करने के लिए काफी चर्चित हैं जिले में।ये भी कहें तो आश्चर्य नहीं होगा।वह भी ऐसे ऐसे बखेड़े की कभी पूरा कर्मचारी संघ उग्र हो जाता है।कभी चिकित्सक इस्तीफा देने पर आ जातें हैं। जनाब थोड़ा राजनीति भी करते हैं।

आपको बता दें कि पहले कोरोना काल के बाद कोविड अस्पताल में आक्सीजन प्लांट का उद्घघाटन कराया गया था आयोजक स्वास्थ विभाग था। अपने ही सरकार से उपेक्षाओं दौर चल रहा था बैकुंठपुर  विधायक श्री मति अंबिका सिंहदेव का जिन्हे आक्सीजन प्लांट के उद्घाटन कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि आमंत्रित किया गया था।

आपको बता दें कि आक्सीजन प्लांट कक्ष में फूल माला साज सज्जा और चका चौंध रौशनी भी थी। पर वहीं पर सामने सेड भी था जंहा वो अपने कार्यकर्ता और करीबियों के साथ रुककर सभी से रू ब रू हो रहीं थीं उस जगह को पूरी तरह अंधेरा छोड़ दिया गया था।जबकि आयोजन स्थल से महज 10 मीटर की ही दूरी और प्रांगण के अंदर स्थित है।

आयोजक चाहते तो वहां पर भी रौशनी कर सकते थे जिससेविधायक महोदया और उनके कार्यकर्ताओं को लोगों से मुखातिब होने में सहूलियत होती।और उन्हें मोबाइल के टार्च सहारा नहीं लेना पड़ता अंधेरे को दूर करने के लिए।

पर ऐसा नहीं किया गया था।हालांकि इस वाक्या को उपस्थित काफी लोगों ने गौर किया पर किसी ने तूल नहीं दिया।लेकिन आखिर क्या कारण था कैसी राजनीति थी ये।तो इतने चर्चित हैं हमारे सी एम एच ओ साहब शर्मा जी।,,बहरहाल शर्मा साहब ने ये कहकर की इससे बड़े अस्पताल तो कस्बों में हैं।मनेंद्रगढ़ तो बड़ा शहर है जैसी बातें कहकर राज्य की तीन साल गुजार रही सरकार को भी अवगत करा दिया है की मनेंद्रगढ़ सरकारी स्वास्थ सुविधाओं में काफी पिछड़ा है।तो अब सरकार को इनकी बातों पर गौर करना चाहिए और मनेंद्रगढ़ को एक बड़ा और सर्वसुविधायुक्त अस्पताल देने की कवायद शुरू कर देनी चाहिए।

बता  दें कि मानवता को शर्मसार करने वाली ये घटना  मनेन्द्रगढ़ के सरकारी अस्पताल की थी जहाँ क्षेत्र के विधायक डॉ विनय जायसवाल खुद एक डॉक्टर हैं सम्भाग से स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव हैं, बावजूद इसके ऐसी घटना घटित होना और उस पर भी यहां के जिम्मेदार स्वास्थ अधिकारी का बातचीत का ऐसा लहज़ा स्वास्थ सुविधाओं और जन भावनाओं के साथ घटिया दर्जे का मजाक लगता है।