breaking news New

अंग्रेजी माध्यम विद्यालय में हिंदी मीडियम स्कूल को संलग्न करना बच्चों के भविष्य के साथ खिलवाड़ : नवीन अग्रवाल

अंग्रेजी माध्यम विद्यालय में हिंदी मीडियम स्कूल को संलग्न करना बच्चों के भविष्य के साथ खिलवाड़ : नवीन अग्रवाल

राजनांदगांव। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के प्रदेश कोर कमेटी सदस्य नवीन अग्रवाल के नेतृत्व में युवा लोकसभा अध्यक्ष अमर गोस्वामी, युवा उपाध्यक्ष करन साहू, युवा जिला महासचिव पंकज परतेति व लगभग 400 छात्र-छात्राओं के साथ एसडीएम कार्यालय का घेराव किया गया।

नवीन अग्रवाल ने कहा कि राजनांदगांव जिले की एकमात्र शिक्षण संस्था जिसकी आधारशिला पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय इंदिरा गांधी द्वारा के हाथों रखी गई थी, उसे प्रदेश में कांग्रेस की सरकार व स्थानीय स्तर पर कांग्रेस के जनप्रतिनिधियों के रहते स्वामी आत्मानंद उत्कृष्ट अंग्रेजी माध्यम विद्यालय में समाहित होने से नहीं रोका जा सका। क्षेत्र के जनप्रतिनिधियों व स्थानीय राजनेताओं की मंशा के विपरित आयरन लेडी के नाम से विख्यात इंदिरा गांधी की स्मृति को अक्षुण्ण बनाए रखने के स्थान पर जिले के आला अधिकारियों ने स्मृति के विलुप्त होने की परवाह न करते हुए शहर के ऐतिहासिक हायर सेकेंडरी स्कूल को स्वामी आत्मानंद हायर सेकेंडरी स्कूल में समाहित कर दिया। स्कूल का नाम इंदिरा गांधी रखने भेजे गए स्व. इंदिरा गांधी के हाथों शिलान्यास किए गए हिंदी मीडियम हायर सेकेंडरी स्कूल के स्वामी आत्मानंद उत्कृष्ट अंग्रेजी माध्यम विद्यालय में समाहित होने की चलती प्रक्रिया के बीच शाला विकास समिति की ओर से हिंदी मीडियम स्कूल को यथावत रखते हुए अथवा स्वामी आत्मानंद स्कूल में हिंदी मीडियम स्कूल को समाहित करने की स्थिति में स्कूल का नाम स्वर्गीय इंदिरा गांधी के नाम से करने के  भेजे गए प्रस्ताव को प्रशासन ने सीधे तौर पर नकार दिया।

शास. बालक उच्चतर माध्यमिक शाला के 5 शिक्षकों का अन्य स्कूलों में संलग्निकरण अध्यापन कार्य में किया गया है और अंग्रेजी माध्यम विद्यालय में हिंदी मीडियम स्कूल को संलग्न करना बच्चों के भविष्य के साथ खिलवाड़ किया गया, जिससे हिंदी माध्यम के बच्चों के लिए भारी नुकसान हो रहा है, जो विषय विशेषज्ञों के द्वारा दोनों पाली के बच्चों को उसी विष्शग्यो के द्वारा पढ़ाया जाना है, जो संभव प्रतीत नहीं होता। प्रदेश सरकार के शिक्षा विभाग द्वारा स्वामी आत्मानंद के नाम से प्रारंभ किए गए अंग्रेजी माध्यम स्कूलों की शिक्षा व्यवस्था को दुरुस्त किए जाने के कारण हिंदी मीडियम स्कूल के अध्यापन कार्य में व्यापक असर पड़ा है। हिंदी मीडियम के कक्षा 9वीं से 12वीं तक 800 दर्ज संख्या वाले विद्यार्थियों के लिए 13 कक्षाएं संचालित की जा रही है। शासन द्वारा आत्मानंद अंग्रेजी माध्यम स्कूल में 43 पदों का सेटअप दिया गया है, जो हिंदी व अंग्रेजी माध्यम के छात्रों की जनसंख्या के अनुसार पर्याप्त नहीं हैं।

युवा लोकसभा अध्यक्ष अमर गोस्वामी ने कहा कि शासन द्वारा अंग्रेजी माध्यम स्कूल के लिए सेटअप बनाया गया है, जिसमें अंग्रेजी माध्यम में संलग्न किए गए हिंदी माध्यम के अध्ययनरत बच्चों की दर्ज संख्या को नजरअंदाज कर दिया गया है। स्वामी आत्मानंद उत्कृष्ट अंग्रेजी माध्यम स्कूल के संचालन में आने वाली सभी बाधाओं को दूर करने के लिए जिला शिक्षा कार्यालय द्वारा लिए जा रहे निर्णय में क्षेत्र के जनप्रतिनिधियों की उपेक्षा सीधे तौर पर दिखलाई पड़ रही है। छात्र-छात्राओं को हफ्ते में एक या दो दिन ही स्कूल बुलाया जा रहा है, जिससे बच्चों की पढ़ाई अच्छे से नहीं हो पा रही है।