breaking news New

करोना को लेकर हुई वर्चुअल बैठक में विधानसभाअध्यक्ष ने कहा मरीजों का रखें विशेष ध्यान

करोना को लेकर हुई वर्चुअल बैठक में विधानसभाअध्यक्ष ने कहा मरीजों का रखें विशेष ध्यान


सक्ती।  विधानसभा अध्यक्ष डॉ चरण दास महंत  ने कहा कि जिले में पिछले कोरोना काल में जमकर काला बाजारी हुई थी। लेकिन  इस बार विशेष ध्यान रखें जाय। इस  मुश्किल हालात में आम जनता को ऐसी नौबत से ना जूझना पड़े। 

विधायकों ने गिनाई पिछले कोरोना काल की कमियां, कलेक्टर ने कहा इस बार नही होगी समस्या, कोरोना को लेकर बुलाई गई संगठनो की बैठक, विधान सभा अध्यक्ष, प्रभारी मंत्री, विधायक वर्चुअली हुए शामिल जिले में आज कोरोना को लेकर कलेक्ट्रेट में बैठक आयोजित की गई जिसमें विधान सभा अध्यक्ष डॉ चरणदास महंत, प्रभारी मंत्री जय सिंह अग्रवाल विधायक नारायण चंदेल और विधायक सौरभ सिंह वर्चुअली मौजूद रहे। इस दौरान जिले में पिछले कोरोना काल की कमियां और उसकी वजह से हुई समयाओ को जोर शोर से जनप्रतिनिधियों ने उठाया और अपने सुझाव भी दिये। 

बैठक के दौैरान विधान सभा अध्यक्ष डॉ चरण दास महंत ने कहा कि इस बात का विशेष ध्यान रखा जाए कि कोरोना की वजह से भय का वातावरण जिले मंे निर्मित ना हो। उन्होंने कहा कि पिछले कोरोना काल में जिले में कालाबाजारी जोरों पर थी जिसके वजह से आम जनता को समस्याओं से जूझना पड़ा था जिला प्रशासन और पुलिस प्रशासन को इस बात का विशेष ध्यान रखना पड़ेगा। 


कलेक्टर जितेन्द्र शुक्ला ने कहा कि पिछले कोरोना काल की तमाम समस्याओं को इस बार ध्यान में रखते हुए बेहतर विकल्प तैयार किये जा रहे हैं उन्होंने बताया कि उन्होंने व्यससायिक संगठनों के प्रतिनिधियों से अपील करते हुए कहा है कि सख्त लहजे में कहा है कि कोई भी काला बाजारी करते पाया गया तो उस पर तत्काल कार्यवाई की जाएगी।

साथ कहा कि दुकानों में कोरोना गाईड लाईन का शत प्रतिशत पालन हो यह दुकानदारों की जिम्मदारी है ताकि आर्थिक गतिविधियों पर रोक लगाने की नौबत ना आए। उन्होंने बताया जानकारी देते हुए बताया कि पिछले साल की तुलना में बेड की उपलब्धता डेढ़ गुना कर दी गई है। पिछले साल लगभग 1200 बेड थे जिसे इस साल 1800 कर दिया गया है !

ऑक्सीजन बेड जो पिछले कोराना काल में 430 थी उसे इस बार 750 कर दिया गया है जिले में सिरियस केस नही आ रहे हैं इसके बावजूद जिले के कोविड केयर सेंटर्स को आपरेशनल बना दिया गया है। उन्होंने बताया कि 3 नये ऑक्सीजन प्लांट प्रारंभ किये गये हैं एक ईसीटीसी में, एक जिला हॉस्पिटल में एक सक्ती में इस तरह से अब कुल चार ऑक्सीजन प्लांट जिले में उपलब्ध हैं।

पुराने ऑक्सीजन कांसंट्रेटर को रेडी कंडीशन में रखा जा रहा है उनके मेंटेनेंस के लिए डीएमएफ से इंजीनियर अपॉइंट किया गया है इस बात की जानकारी भी कलेक्टर ने दी। मेडिसिन्स की पर्याप्त उपलब्धता की भी जानकारी उन्होंने दी है साथ ही ऑक्सीजन फ्लोमीटर की संख्या भी 05 गुना बढ़ा दी गई है यह भी उन्होंने बताया।