कालाबाजारी करने वालों के खिलाफ एनएसए के तहत कार्रवाई

कालाबाजारी करने वालों के खिलाफ एनएसए के तहत कार्रवाई

लखनऊ, 26 मार्च | कोविड-19 की रोकथाम के लिये लाकडाउन के अनुपालन में और कड़े फैसले लेने का संकेत देते हुये उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गुरूवार को कहा कि जरूरत की चीजों की कालाबाजारी करने वाले व्यापारियों के खिलाफ राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) के तहत कार्रवाई की जा सकता है। योगी ने यहां आयोजित समीक्षा बैठक में अधिकारियों से लाॅकडाउन की कार्रवाई को और अधिक प्रभावी बनाने के निर्देश दिये।उन्होंने कहा कि जिला और पुलिस प्रशासन के अधिकारी संयुक्त रूप से पेट्रोलिंग करें।

किसी भी स्थल पर भीड़ न इकट्ठी होने दी जाए जबकि पब्लिक एड्रेस सिस्टम के माध्यम से जनता को घर से बाहर न निकलने और लाॅकडाउन का पालन करने के लिए जागरूक किया जायेगा।उन्होने कहा कि लोगों को जरूरत की चीजें होम डिलीवरी व्यवस्था के जरिये उपलब्ध करायी जाएं।जमाखोरी, कालाबाजारी, मुनाफाखोरी के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की जाए। ऐसे कार्याें में लिप्त व्यक्तियों के विरुद्ध एफआईआर दर्ज कर गिरफ्तारी की जाए।

आवश्यकता पड़ने पर एनएसए के अन्तर्गत भी कार्रवाई की जाए।मुख्यमंत्री ने कहा कि लाॅकडाउन की अवधि में जनता को आवश्यक वस्तुएं उपलब्ध कराने के लिए होम डिलीवरी सिस्टम को सुदृढ़ किया जायेगा।इसके लिए स्वयंसेवी संस्थाओं के साथ समन्वय कर वाॅलण्टियर्स तैयार किये जायेंगे।व्यापारियों और व्यावसायियों को होम डिलीवरी सिस्टम अपनाने के लिए प्रेरित किया जायेगा।होम डिलीवरी के माध्यम से सब्जी, दूध, दवा आदि की आपूर्ति में 14,000 से अधिक वाहन वाॅलण्टियर्स के साथ योगदान दे रहे हैं।

उन्होंने कहा कि लोग आवश्यकता पड़ने पर कंट्रोल रूम, ‘112’, ‘108’, ‘102’ आदि नम्बरों पर सम्पर्क करें।उन्होने कहा कि रैन बसेरों, आश्रय स्थलों, सीमावर्ती क्षेत्रों में रुके हुए लोगों तक प्राथमिकता के आधार पर भोजन एवं पेयजल उपलब्ध कराया जाए।इस कार्य में वाॅलण्टियर्स का सहयोग लिया जाए।निराश्रित व्यक्तियों, श्रमिकों, बुजुर्गाें, झुग्गी-झोपड़ी में रहने वाले लोगों, किसी भी तरह के आश्रय स्थलों में रहने वाले व्यक्तियों, हाॅस्टलों आदि में रहने वाले लोगों के लिए कम्युनिटी किचन स्थापित कर दिये गये हैं।वाॅलण्टियर्स के सहयोग से इन सभी लोगों तक ताजा भोजन का पैकेट और शुद्ध पेयजल पहुंचाया जा रहा है।