breaking news New

दो जिगरी दोस्त एक दूसरे के जान के दुश्मन बने

दो जिगरी दोस्त एक दूसरे के जान के  दुश्मन बने

रांची ।  राजनीति में कब कौन दुश्मन दोस्त और कब कौन जिगरी दोस्त दुश्मन बन जाए यह कोई नहीं जानता. कल तक एक दूसरे को गले लगाने वाले और कार्यक्रमों में साथ नजर आने वाले बोकारो के दो बड़े नेता आज जानी दुश्मन बने हुए हैं. करीब 20 दिन से बीजेपी विधायक और बीजेपी के सचेतक बिरंची नारायण और बेरमो के पूर्व विधायक योगेश्वर महतो बाटुल एक दूसरे पर लगातार कीचड़ उछाल रहे हैं. बात केस-मुकदमे तक पहुंच गई है. ऐसा लग रहा है मानो ये दोनों नेता बीजेपी प्रदेश नेतृत्व के नियंत्रण से बाहर हो चुके हैं. लेकिन अपनी हरकतों से पार्टी की भद पिटवाने वाले इन दोनों नेताओं पर प्रदेश नेतृत्व की ओर से कोई कार्रवाई नहीं की गई है.

ग्रामीणों ने उसकी बात को गंभीरता से नहीं लिया था. लेकिन दोपहर में अचानक से ग्रामीणों को सूचना मिली है कि हराधन लोहरा की हत्या हो गई है. ग्रामीण मौके पर पहुंचे तो देखा कि तरुण ने तेज हथियार से वार कर उसकी हत्या की है. ग्रामीणों ने आरोपी तरुण को पकडक़र पुलिस के हवाले कर दिया. पूछताछ के क्रम में तरुण में हत्या करने की बात स्वीकार की है. पुलिस का कहना है कि मामला नरबलि का है या नहीं इसकी जांच करें. पुलिस इस बिंदु पर भी जांच कर रही है कि तरुण इससे पहले किसी मामले में जेल गया है या नहीं. नरबलि की बात सामने आने के बाद तमाड़ इलाके में सनसनी फैल गई है. हराधन लोहरा की मौत के बाद उसके परिजनों का कहना है कि तरुण के साथ उसका कोई विवाद नहीं था. इसके बाद भी उसकी हत्या कर दी गई. ग्रामीणों का कहना है कि मामला पूरी तरह से नरबलि का है. घटना की जानकारी पाकर मौके पर एसडीपीओ बुंडू पहुंच गए और मामले की जांच कर रहा है.