breaking news New

सीमेंट 310 रुपए.., एमआरपी से ज्यादा दर पर बेचने की शिकायत

सीमेंट 310 रुपए.., एमआरपी से ज्यादा दर पर बेचने की शिकायत

भाटापारा, 23 मार्च। नियंत्रण से बाहर जा रहे सीमेंट ने आज 310 रुपए प्रति बोरी की नई दर अपने नाम कर ली। अब बाजार, अधिकतम खुदरा विक्रय मूल्य की जगह उपभोक्ता की जरूरत देख कर, अपने हिसाब से भाव बता रहा है, बेच रहा है। यह तब हो रहा है, जब पर्याप्त मात्रा में सीमेंट की उपलब्धता नहीं है और मांग का दबाव लगातार बढ़त ले रहा है।

डीजल की आसमान पहुंच चुकी कीमत के बाद ट्रांसपोर्ट कंपनियों ने मांग रखी थी कि सीमेंट परिवहन की दरें बढ़ाई जाए। कंपनियों की मनाही के बाद आंदोलन की राह पर चल रहीं ट्रांसपोर्ट कंपनियों को तब सहारा मिला, जब सरकार ने समझौते की राह खोजी । अब 12% परिवहन चार्ज में बढ़ोतरी के बाद सीमेंट का परिवहन चालू हो चुका है लेकिन एक पखवाड़े से बंद आपूर्ति के बाद स्थिर हो चला, यह क्षेत्र जिस तरह की मनमर्जी से काम कर रहा है उससे निराशा के सिवाय और कुछ हासिल नहीं हो रहा है।

सप्लाई लाइन शार्ट

ट्रांसपोर्ट कंपनियों के हड़ताल पर जाने और समझौते के बीच के दिनों में सप्लाई लाइन पूरी तरह बाधित रही। इससे मांग और आपूर्ति के बीच का संतुलन पूरी तरह गड़बड़ा चुका है। मांग की तुलना में कमजोर आपूर्ति से कीमतें उछाल लेने लगीं हैं। इधर ग्रामीण के अलावा शहरी क्षेत्र में निर्माण को गति का मिलना तेज हो चुका है। हर निर्माण एजेंसी मानसून की दस्तक के पहले काम पूरा कर लेना चाहती है, इसलिए मांग बढ़ी हुई है।

अंदेशा इसका भी

सीमेंट कारोबार यह मानकर चल रहा है कि जैसे ही सप्लाई लाइन सामान्य होगी वैसे ही कीमतों में तेजी को एक झटके से ब्रेक लग सकता है। इसलिए उत्पादक क्षेत्र को उतना ही आर्डर दिए जाने की खबर है, जिससे तेजी की निरंतरता बनी रहे। दूसरी आशंका यह भी है कि सरकार जैसे ही एक्शन में आएगी, कीमतें अर्श से फर्श पर आ सकती हैं। इसलिए कीमत जरूरत को देखकर तय किए जाने जैसी गतिविधियां जोर पकड़ चुकी हैं।

300 से 310 रुपए

ट्रांसपोर्टरों की हड़ताल से पहले दुकानदार 265 रुपए बोरी सीमेंट बेच रहे थे, वह अब 300 से 310 रुपए बोरी की दर पर बेची जा रही है। ग्रामीण क्षेत्र की दुकानों में तो हाल और भी ज्यादा खराब बताया जा रहा है, जहां 315 से 320 रुपए तक लिए जाने की शिकायतें पहुंचने लगीं हैं। ऐसी स्थिति कब तक रहेगी, जैसे सवाल के जवाब, फिलहाल खोजने पर भी नहीं मिल रहे हैं।