breaking news New

डभरा क्षेत्र के किसानों को भी नहर के माध्यम से पानी देने का निर्णय

डभरा क्षेत्र के किसानों को भी नहर के माध्यम से पानी देने का निर्णय

मालखरौदा, 20 नवंबर। जल उपभोक्ता समिति के बैठक में  1 जनवरी से इस बार सक्ती मालखरौदा डभरा क्षेत्र के किसानों को भी नहर के माध्यम से रवि की फसल के लिए पानी देने का निर्णय लिया गया है। इसके लिए जल संसाधन विभाग एवं कृषि विभाग के आर ई ओ  के साथ गांव के किसानों को इस बारे में जानकारी देना है। साथ में यह बताना है कि जल उपभोक्ता समिति के निर्णय अनुसार चना गेहूं सरसों आदि के लिए 3 बार पानी दिया जाना है किसान किस-किस खार में फसल लगाना चाहते हैं। इसकी जानकारी क्षेत्र के ग्राम सेवकों को एकत्रित करनी है लेकिन देखने में आ रहा है जल संसाधन विभाग का किसी भी प्रकार का पत्र अभी तक वरिष्ठ कृषि अधिकारी कार्यालय मालखरौदा नहीं पहुंचा है। एपीओ द्वारा अपने स्तर पर आर ई ओ के माध्यम से किन-किन गांव का किसान रवि फसल में सरसों गेहूं चना का लगाना  चाहते है। इसकी जानकारी लिया जा रहा है हालांकि इस संबंध में  कुछ गांव के सरपंच से बात करने पर पता चला कि आज तक किसी भी आर ई ओ द्वारा इस संबंध में अवगत ही नहीं कराया गया है ऐसे में कहीं जनवरी माह में छोड़े जाने वाले पानी बेकार में ही ना बह जाए जिस प्रकार से जल संसाधन विभाग एवं कृषि विभाग के बीच तालमेल नहीं बन पा रहा है। 

मंदरा गोड़ी क्षेत्र के पूर्व सरपंच पति राम प्रसाद यादव का कहना है कि उनके गांव में 5 से 7खार  हैं ऐसे में कम से कम पहले साल दो खार के लिए पानी मिल जाता तो अच्छा है। इससे इसे गांव के किसानों को पहले साल पानी की उपलब्धता का पता चल जाएगा साथ ही आवारा पशुओं के रोकथाम के लिए खाली खारो में व्यवस्था किया जा सकता है। एक साथ ही सभी खार में फसल लगाने से मुश्किल हो सकता है अभी तक ग्राम सेवकों द्वारा उनके गांव में पहुंचकर किसानों से चर्चा नहीं किया गया है इसी प्रकार ग्राम दर्राभाठा आडिल डिक्सी  सरपंच ने बताया कि ग्राम सेवक द्वारा अभी तक किसी प्रकार की जानकारी नहीं दिया है।  रवि फसल लगाएं जाने के संबंध में जबकि पोता चरोदा के सरपंच का कहना है कि आर ई ओ  ग्राम में पहुंचे थे रवि फसल में गेहूं चना सरसों लगाने के संबंध में चर्चा हुआ है। 

वरिष्ठ कृषि अधिकारी मालखरौदा  आर पी चंद्रा ने कहा कि ग्रीष्मकालीन फसल लगाने के संबंध में जल संसाधन विभाग का पत्र अभी तक नहीं मिला है अपने स्तर पर तैयारी कर रहे हैं।               

जल संसाधन विभाग खरसिया, कार्यपालन अभियंता एस एल यादव ने कहा कि जल उपभोक्ता संस्था का बैठक के संबंध में सभी समाचार पत्रों में समाचार प्रकाशित हुआ था की सभी गांव को रवि फसल के लिए पानी दिया जाना है ऐसे में पत्र जारी किए जाने की क्या आवश्यकता है।