breaking news New

ढाई सालो में मोदी सरकार सब कुछ अडानी और अम्बानी के हवाले कर खुद झोला उठाकर निकल लेंगे: रवि जयसवाल

ढाई सालो में मोदी सरकार सब कुछ अडानी और अम्बानी के हवाले कर खुद झोला उठाकर निकल लेंगे: रवि जयसवाल

शब्बीर कुरैशी/दल्ली राजहरा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अब अपने कार्यकाल का साढ़े सात साल पूर्ण करने जा रहे है। इस पर दल्ली राजहरा के पूर्व नगरपालिका उपाध्यक्ष रवि जयसवाल ने मोदी सरकार पर जमकर निशाना साधा। रवि जयसवाल  ने कहा कि कोई भी मीडिया समूह आपको यह बात नही बता रहा है कि नरेंद्र मोदी की सरकार को नवम्बर के अंत मे अपने ढाई साल पूरे करने जा रही है यानी नरेंद्र मोदी को  प्रधानमंत्री बने पूरे साढ़े सात साल पूरे हो गए हैं। नरेंद्र मोदी ने 30 मई, 2019 को प्रधानमंत्री के रूप में दूसरी बार शपथ ग्रहण की थी 30 नवम्बर 2021 को उनकी दूसरी टर्म के ढाई साल पूरे हो गए हैं। 

उन्होंने आगे कहा कि मोदी सरकारने पूरे साढ़े सात साल में कुछ नहीं किया बल्कि जो कुछ था उसे भी बर्बाद कर दिया है। और इसीलिए मोदी मुख्य मीडिया बहस से बचना चाहता है क्योकि बात निकलेगी तो दूर तलक जाएगी। पीएम मोदी ने हर साल दो करोड़ लोगो को रोजगार देने का वादा किया था, लेकिन अभी तक लोगों को रोजगार नहीं मिला है। 

उन्होंने आगे कहा कि महंगाई पर भी मोदी ने लगाम नहीं लगा रही है, भाजपा का मुख्य नारा था 'बहुत हुई महंगाई की मार अबकी बार मोदी सरकार लेकिन वर्तमान में इसका जस्ट विपरीत होती जा रही है। अभी कुछ दिन पहले दुनिया की सबसे बड़ी कंसल्टेंट फर्मों में एक मैकेंजी ने एक रिपोर्ट पेश की है।  इस रिपोर्ट की खास बात यह है कि इसमे दुनिया के विभिन्न देशों की सन 2000 के बाद बढ़ने वाली संपत्ति की तुलना की है। 

आपको जानकर आश्चर्य होगा कि इस रिपोर्ट में टॉप टेन कंट्री में भारत का नामोनिशान भी नही है।  मैकेंजी अपनी रिपोर्ट में कहा है कि पिछले 20 सालों में चीन की संपत्ति में भी बेतहाशा इजाफा हुआ है। चीन की वेल्थ यानि संपत्ति वर्ष 2000 के 07 ट्रिलियन डॉलर से बढ़कर 120 ट्रिलियन डॉलर हो गई है। चीन की दौलत अमेरिका से भी तीन गुना रफ्तार से बढ़ी है। 

उन्होंने आगे कहा कि यदि मोदी सरकार भारत की अर्थव्यवस्था को दुनिया की सबसे तेज बढ़ती अर्थव्यवस्था बताती है तो इस लिस्ट में भारत क्यो नही है?। 1999 के बाद भाजपा ने कुल साढ़े बारह साल देश का नेतृत्व किया जबकि कांग्रेस ने कुल 10 साल। देश को अभी ढाई साल और मोदी सरकार की महंगाई को  झेलना है। उम्मीद तो वैसे इनसे कुछ भी नहीं है, लेकिन यह तय है कि इन ढाई सालो में यह सब कुछ अडानी अम्बानी के हवाले कर खुद झोला उठाकर निकल लेंगे।