रेल प्रशासन द्वारा कोरोना वायरस के मद्देनजर रद्द किये टिकट पर पूर्ण धनवापसी एवं कोई शुल्क नहीं काटा जायेगा

रेल प्रशासन द्वारा कोरोना वायरस के मद्देनजर  रद्द किये टिकट पर पूर्ण धनवापसी एवं कोई शुल्क नहीं काटा जायेगा


आरक्षित टिकटों को रद्द करने पर काटा गया चार्ज की भी पूर्ण धनवापसी

रायपुर।  रेल प्रशासन द्वारा यह निर्णय लिया गया है कि कोरोना  वायरस  (कोविड -19) के मद्देनजर 21 मार्च से 14 अप्रैल 2020 तक यात्रा अवधि के लिए रद्द किये टिकट पर पूर्ण धनवापसी की जाएगी एवं इस यात्रा अवधि के लिए आरक्षित टिकटों को रद्द करने पर कोई शुल्क लगाया गया हो तो उसकी भी पूर्ण धनवापसी का निर्णय लिया गया है । जिसकी धनवापसी इस प्रकार निम्नानुसार  होगी ।

(1.) यात्री आरक्षण कार्यालय के काउंटर टिकट - 


* 21 मार्च से 14 अप्रैल 2020 तक यात्रा अवधि के लिए पहले से ही टिकट रद्द करने वाले टिकटो पर शेष राशी रिफंड के लिये संबंधित ज़ोनल रेलवे मुख्यालय के यात्री मुख्य दावा अधिकारी (CCO) या मुख्य वाणिज्यिक प्रबंधक रिफंड (CCM- Refund) कार्यालय में निर्धारित प्रारूप में आवेदन के माध्यम से, टिकट रद्द करने से 06 महीने के भीतर किया जा सकता है ।

* उक्त अवधि के लिए वर्तमान में रद्द किए गए टिकटो को रद्द करने पर पूर्ण धनवापसी दी जाएगी । यात्रा की तारीख से 03 महीने के  भीतर इसका लाभ ले सकते हैं ।


(2.)  ई-टिकट


* उक्त अवधि के लिए जिन यात्रियों ने ई-टिकट बुक किया था, आरक्षित टिकटों को रद्द करने पर कोई शुल्क लगाया गया हो तो उसकी भी शेष धनराशी वापसी की जाएगी ।


* उक्त अवधि के लिए वर्तमान में रद्द किए जा रहे  टिकटो के संबंध में पूर्ण धनराशी दी जायेगी कोई चार्ज नहीं काटा जायेगा ।

chandra shekhar