breaking news New

शासन की फ़्लैगशिप योजनाओं में तत्काल दिखाएं तत्परता-कलेक्टर

शासन की फ़्लैगशिप योजनाओं में तत्काल दिखाएं तत्परता-कलेक्टर


बलौदाबाजार,15 जून / कलेक्टर सुनील कुमार जैन ने आज ऑनलाइन माध्यम से समस्त विभाग के कामकाज की समीक्षा किए। उन्होंने सभी जिला अधिकारियों को सख्त निर्देश देतें हुए कहा शासन की फ़्लैगशिप योजनाओं को सर्वोच्च क्रम में रखते हुए उन्हें प्राथिमकता प्रदान करें। इससे संबंधित आम लोगों के कोई भी आवेदन कार्यालय को प्राप्त होते है तो उनका समय सीमा के भीतर ही शीघ्र निराकरण करें। उन्होंने आगें कहा कि कुछ दिनों में बरसात अच्छे से होना प्रारंभ हो जाएगा। उसके पूर्व ही सभी नगरीय निकायों एवं ग्राम पंचायतों में नालियों की सफाई, पेयजल स्थलों में ब्लीचिंग पाऊडर का छिड़काव सुनिश्चित करनें के निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिए है। इसके साथ ही बरसात के मौसम में जल जनित कुछ बीमारियों का फैलाव भी होता है,उसके रोकथाम के लिए पूर्व दवाईयों का संग्रह एवं मितानिनों के पास पर्याप्त मात्रा में दवाईयों की उपलब्धता सुनिश्चित करनें के निर्देश सीएचएमओ डॉ खेमराज सोनवानी को दिए है। सहकारिता,पंचायत एवं कृषि विभाग के अधिकारियों को वर्मी कंपोस्ट खाद के निर्माण,पैकेजिंग एवं उठाव संबंधित निर्देश दिए है।

*जुलाई में मिलेगा पर्याप्त वैक्सीन*

कलेक्टर सुनील कुमार जैन ने कहा कि जुलाई माह से पर्याप्त मात्रा में 18 वर्ष से अधिक उम्र वालों को वैक्सीन मिल जाएगा। उसके लिए अधिक से अधिक पंजीयन को बढ़ावा देनें कहा है। सभी अधिकारियों को अपनें अपनें स्तर में पंजीयन को बढ़ाने का प्रयास करनें कहा है। उन्होंने राजस्व पंचायत, नगरीय एवं स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को गावों,वार्डो के अनुसार वैक्सीनेशन का रोडमैप बनाने के निर्देश दिए है। इसके साथ ही सभी जिला वासियों से अपील की है कि आप सभी टीकाकरण के लिए अनिवार्य रूप से अपना पंजीयन करा कर रखें। जैसे ही टीका जिलें को मिलेगा वैसे ही टीकाकरण में तेजी आएगी। इसलिए किसी भी तरह असुविधा से बचने के पूर्व ही टीकाकरण करा लेवें। 

इस दौरान अपर कलेक्टर राजेन्द्र गुप्ता, जिला पंचायत सीईओ डॉ फरिहा आलम सिद्की, अतिरिक्त जिला पंचायत सीईओ हरिशंकर चौहान,उपसंचालक कृषि संत राम पैकरा एनआईसी कक्ष में उपस्थित थे। अन्य सभी अधिकारी ऑनलाइन माध्यम से जुड़े हुए थे जिसमें सभी एसडीएम,तहसीलदार,नायब तहसीलदार,सीईओ,सीएमओ एवं सभी विभागों के जिला अधिकारी गण शामिल थे।