breaking news New

अल्टीमेंटम समाप्त होने के बाद समिति कलेक्टर से मुलाकात कर लीज रद्द करने को लेकर करेगी चर्चा

अल्टीमेंटम समाप्त होने के बाद समिति कलेक्टर से मुलाकात कर लीज रद्द करने को लेकर करेगी चर्चा

नारायणपुर। आमदई खदान की लीज को रद्द करने की मांग को लेकर बस्तर संभाग के 7 जिलों से हजारों ग्रामीणों ने धौड़ाई गांव में 4 दिनों तक आंदोलन किया था। इस आंदोलन के 4 चैर्थ दिन हजारों ग्रामीणों की उपस्थिति में कलेक्टर ज्ञापन सौपा गा था। इसमें आमदई घाटी खदान की लीज रद्द करने की मांग करते हुए सर्व समाज संघर्ष समिति ने 15 दिनों का अल्टीमेटम जिला प्रशासन को दिया था।

इस अल्टीमेटम की अवधि लगभग पूर्ण होने को आ गई है। इसको ध्यान में रखकर सर्व समाज संघर्ष समिति ने छोटेडोंगर में सामाजिक कार्यकर्ता सोनी सोरी  की उपस्थिति में बैठक आहुत की थी। इस बैठक में सर्व समाज समिति ने विभिन्न मुद्दों पर चर्चा करते हुए आाती रणनीति बनाई है। इसमें सर्व समाज संघर्ष समिति सबसे पहले कलेक्टर से मुलाकात कर सोपें ज्ञापन को लेकर चर्चा करेगी।

इस चर्चा के बाद आगामी आंदोलन की रणनीति बनार्ठ जाएगी। जानकारी के अनुसार जिला मुख्यालय से 45 किलोमीटर दूर छोटेडोंगर आमदई घाटी में लोह अयस्क का भण्डारण मौजूद है। इस लोह अयस्क को खनन करने का जिम्मा निको जयसवाल कम्पनी को सौपा गया है। इससे निको जयसवाल कम्पनी लोह अयस्क खनन करने के लिए अपनी तैयारियां तेज कर दी है।

इससे आमदई घाटी के प्राकृतिक सौंदर्य, संस्कृति, देवी-देवताओं के स्थान, जंगल के वनोपज को होने वाले नुकसान को संज्ञान में लेकर बस्तर संभाग के 5 जिलों के हजारों आदिवासियों ने आमदई घाटी खदान की लीज रद्द करने मांग को लेकर अपनी आवाज बुलंद कर दी है। इसमें बस्तर संभाग के हजारों आदिवासी ग्रामीणों ने 2 दिसम्बर को छोटेडोंगर में एकत्रित होने के बाद आमदई घाटी खदान की लीज को रद्द करने की मांग लेकर छोटेडोंगर से धौड़ाई तक करीब 9 किलोमीटर पैदल रैली निकाली थी। इसमें रैली धौड़ाई में पहुंचने के बाद हजारों ग्रामीणों गोण्डवाना समाज भवन के सामने सड़क में बैठक अपना आंदोलन शुरू कर दिया था।

इसमें हजारों आदिवासी ग्रामीणों ने सड़क में डेरा डालकर चक्का कर दिया था। इसमें 3 दिनों तक चले आंदोलन के बाद चैथे दिन यानि 6 दिसम्बर को हजारों आदिवासी ग्रामीणों ने कलेक्टर अभिजीत सिंह से करीब 2 घंटे चर्चा करते हुए अपनी मांगों से अवगत कराते हुए कलेक्टर को ज्ञापन सौपा था। इसमें हजारों ग्रामीणों ने मुख्य रूप से आमदई घाटी खदान की लीज रद्छ करने की मांग को लेकर जिला प्रशासन को 15 दिनों का अल्टीमेटम दिया था। इससे जिला प्रशासन को दिए गए 15 दिनों के अल्टीमेटम की अवधि 22 दिसम्बर को पूर्ण होने जा रही है। इसको संज्ञान में लेकर सर्व समाज संघर्ष समिति ने सामाजिक कार्यकर्ताकी सोनी सोरी की उपस्थिति में सोमवार को छोटेडोंगर लोक निर्माण विभाग विश्राम गृह में बैठक आहुत की थी। इस बैठक में 6 दिसम्बर को जिले के मुखिया अभिजीत सिंह को सौपे गए ज्ञापन में लेकर विचार-विमर्श किया गया।

इसके साथ ही जिला प्रशासन को दिए गए अल्टीमेटम की अवधि पूर्ण होने को है। इसके बावजूद जिला प्रशासन द्वारा सौपे गए ज्ञापन को लेकर कोई जवाब नहीं  मिलने पर सर्व समाज संघर्ष समिति ने आगाती आंदोलन को लेकर अपनी रणनीति बनार्ठ है। इस रणनीति में सर्व समाज संघर्ष समिति के 20 सदस्य सामाजिक कार्यकर्ता सोनी सोरी की अगुवाई में 26 दिसम्बर को जिला मुख्यालय पहुंचकर अलेक्टर अभिजीत सिंह से मुलाकात कर दिए गए ज्ञापन लेकर चर्चा करेगें। इस चर्चा के बाद सर्व समाज संघर्ष समिति आमदई घाटी खदान की लीज को रद्द करने की मांग को लेकर आंदोलन की नई रूप रेखा तैयार करेगें।

सर्व समाज संघर्ष समित का हुआ गठन

आमदई घाटी लोह अयस्क खदान के लीज को रद्द करने की मांग को लेकर हजारों आदिवासी ग्रामीणों ने आंदोलन किया था। इस आंदोलन के बाद जिला प्रशासन को दिए गए अल्टीमेटम की अवधि पूर्ण होने को आग गई है। इसकेा संज्ञान में लेकर सर्व समाज पदाधिकारियों ने छोटेडोंगर में बैठक आहुत की थी। इस बैठक में सर्व प्रथम सर्व समाज जनसंघर्ष समिति का गठन सर्व सहमति से किया गया। इसमें सर्वसहमति से संघर्ष समिति के अध्यक्ष की जिम्मेदारी सागर साहु को सौपी गई है। इसके साथ ही उपाध्यक्ष सुखदेव बेलसरिया, सचिव सोनसिंग कचलाम, सह सचिव दुआरूराम कोर्राम, कोषाध्यक्ष सुमन सिंग पात्र सहित 20 सदस्या शामिल है। इस सर्व समाज जनसंघर्ष समिति के पदाधिकारी सहित सभी सदस्य 26 दिसम्बर को सोनी सोरी की अगुवाई में कलेक्टर से मुलाकात करेगें।