breaking news New

तेरा मेरा मनवाः आप पूछे हम बताएं , मन से मन की उलझन सुलझाएं - डॉ. ममता व्यास

तेरा मेरा मनवाः आप पूछे हम बताएं , मन से मन की उलझन सुलझाएं - डॉ. ममता व्यास

बदलती जीवन शैली और तनाव भरी जिन्दगी व्यक्ति के शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य पर बहुत बुरा असर डालती है। परिणामस्वरूप मानसिक रोग घेर लेते हैं । मन की हजार उलझनों का सुलझाव भी मन के रास्तों से ही निकलता है  तेरा मेरा मनवा भी कुछ ऐसी ही बात करता है। 

समस्या - मेरे बड़े भाई साहब को बहुत कमउम्र से ही शराब पीने की आदत थी। बढ़ती उम्र के साथ अब उनके दिमाग ने भी काम करना बंद कर दिया है वे अपनी नौकरी भी ठीक से नहीं कर पा रहे परिवार के सदस्य बहुत परेशान रहते हैं। शराब से लीवर खराब होता सुना था क्या दिमाग भी सुन्न हो जाता है ?

समाधान–  कोई भी व्यक्ति किसी भी प्रकार के नशीले पदार्थों का सेवन यदि अधिक मात्रा में करता है तो उसके शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य दोनों पर प्रभाव पड़ता है। काउंसलर की मदद ली जानी चाहिए।

ये भी पढ़ेः तेरा मेरा मनवाः आप पूछे हम बताएं, मन से मन की उलझन सुलझाएं

समस्या - मेरे कार्यालय में मेरे एक सहकर्मी को जब भी बॉस किसी गलती पर डांटते है या कोई नया काम सौंपते है तो उन्हें घबराहट और तेज बैचेनी होने लगती है। उनके हाथ काँपने लगते हैं और पसीने के साथ चक्कर भी आ जाते हैं । कार्यालय के सभी लोग उनका मजाक बनाकर हँसते हैं। ये कोई मानसिक रोग है क्या ?

समाधान–  मुझे लगता है उन्हें एंजाइटी या चिंता का मानसिक रोग है । इसमें रोगी को डर,नकारात्मक विचार,चिंता का आभास होने लगता है । अगर समय रहते उचित इलाज नहीं करवाया गया तो मिर्गी की बीमारी हो सकती है। 


समस्या - मेरे कालेज में एक लड़की पढ़ती थी हम दोनों बहुत अच्छे दोस्त थे। हमारे बीच बहुत प्यार भी था, उसके परिवार की आर्थिक स्थिति कमजोर होने के कारण मैंने उसकी हर तरह से बहुत मदद की। मेरे पास जितने भी जमा रुपए थे मैंने उसकी पढ़ाई पर खर्च कर दिये। हम दोनों ने शादी करने का फैसला भी लिया था। पिछले दिनों उसकी सरकारी नौकरी लग गई और उसने मुझसे रिश्ता तोड़ दिया यह कहकर कि उसके परिवार के लोग नीची जाति में शादी नहीं करने देंगे। कई दिनों से मैं डिप्रेशन में हूँ। मेरा मन करता है मैं आत्महत्या कर लूँ। 

समाधान–  आपकी मन की स्थिति समझ सकती हूँ। आपकी दोस्त ने आपकी सच्ची भावना और प्यार का फ़ायदा उठाया है। दुनिया में कदम –कदम पर स्वार्थी लोग मिल जाते हैं। हमें हमेशा हमारे दिमाग को खुला रखना चाहिये। आप इस धोखे से सबक लेकर अपने करियर पर ध्यान दीजिये। ज़िंदगी किसी एक व्यक्ति पर नहीं ठहरती, सब भुला कर आगे बढ़िए।

ये भी पढ़ेः तेरा मेरा मनवा: आप पूछे हम बताएं, मन से मन की उलझन सुलझाएं

समस्या -  मेरे बेटे की उम्र 25 वर्ष है अक्सर वह देर रात तक जागता है। मुझे संदेह होता है कि वह पोर्न फिल्में या वीडिओ देखता है। पूरी रात जागने की कारण उसके स्वास्थ्य पर बुरा असर पड़ रहा है। बहुत चिंतित हूँ क्या करूँ ?

समाधान–  ये बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है लेकिन पोर्नोग्राफ़ी का इस्तेमाल बहुत तेजी से बढ़ रहा है तमाम प्रतिबंधों के बावजूद करोड़ों लोग इन्टरनेट एवं अन्य माध्यमों से पोर्नोग्राफ़ी से जुड़ रहे हैं। युवाओं के लिए ये बहुत खतरनाक है। उनके व्यवहार में  नकारात्मकता बढ़ रही है। अक्सर माता-पिता यौन विषयों पर बच्चों से बातचीत करने में हिचक महसूस करते हैं। बच्चों के दोस्त बनिए और उन्हें क्रिएटिव कार्यों के लिए मोटिवेट कीजिये।

समस्या - मेरे ससुराल के सभी सदस्य आपस में बहुत लड़ाई झगड़ा करते हैं। रोज किसी ना किसी बात पर झगड़ा होता ही है। मेरे पाँच वर्षीय बेटा रोज रोज ये देखकर बहुत गुमसुम होता जा रहा है। वो किसी से बातचीत नहीं करता, मैं बहुत परेशान हूँ।

समाधान– घर का तनाव बच्चे में मेंटल डिसोर्डर पैदा कर देता है। बच्चों को  घर के हर सदस्य का प्यार मिलना चाहिए तभी उनका विकास होता है। अगर घर के लोग ही आपस में झगड़ा करेंगे तो बच्चे मानसिक रूप से बीमार हो सकते हैं । आप अपने बच्चे का रूटीन सेट करें । उसे किसी हॉबी क्लास में भेजे ताकि वह खुश रहे। उसके साथ खेले और उससे बात करती रहे। कहानियाँ सुनाये।

ये भी पढ़ेः तेरा मेरा मनवा: आप पूछे हम बताएं, मन से मन की उलझन सुलझाएं

समस्या - पिछले दिनों से मेरे सात वर्षीय बेटा अजीब सा व्यवहार कर रहा है। घर के बड़े लोगों की तरह बात करना। आत्मा और परमात्मा और संसार की बातें करना जैसे कोई संत हो। कमरे की छत को  बिना पलक झपकाए घंटों देखना। वो कुछ दिनों से बहुत ऐक्टिव हो गया है। उसकी एनर्जी देखकर हम सभी लोग बहुत डर गए हैं। मेरी पत्नी और मेरे ससुराल वाले उसे किसी ओझा के पास ले जाते हैं।

समाधान– आप परेशान न होइए| आप अपने शहर के किसी योग्य चिकित्सक से परामर्श लीजिये। हो सकता है आपके बच्चे को Attention Deficit Hyper Activity Disorder यानि एडीएचडी हो। इसमें बच्चों में ध्यान की कमी एवं अत्यधिक सक्रियता की समस्या हो जाती है। ओझा, पंडित या तांत्रिकों के पास जाना बंद कीजिये।

(रविवारीय जनधारा में मनोविज्ञान में पीएचडी एवं मनोविज्ञान सलाहकार ममता व्यास का कॉलम "तेरा मेरा मनवा" के जरिए मनोविज्ञान से जुड़े प्रश्नों के जवाब दिए जाएंगे। )