breaking news New

कोरोना महामारी के बाद देश अब महंगाई आपदा की चपेट में, जिसके जिम्मेदार सिर्फ मोदी सरकार-मोहन मरकाम

कोरोना महामारी के बाद देश अब महंगाई आपदा की चपेट में, जिसके जिम्मेदार सिर्फ मोदी सरकार-मोहन मरकाम

रायपुर। छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष मोहन मरकाम ने गुरूवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के सात वर्ष के कार्यकाल पर कई सवाल खड़े करते हुए कहा कि मोदी सरकार के कार्यकाल में एक ओर कोविड-19 महामारी से लोग मर रहे है तो दूसरी  ओर बेतहाशा महंगाई लोगों को मार रही है। उहोंने कहा कि कोरोना काल में एक ओर जहां लोगों के रोजगार छूट गये है, व्यापारियों का व्यापार तबाह हो गया है। ऐसे हालातों में पेट्रोल-डीजल, रसोई गैस, मिट्टी तेल से लेकर खाने के तेलों में बेतहाशा वृद्धि कर मोदी सरकार लोगों की जेबों पर डाका डलवाने का काम कर रही है। जिस तरह से देश में अब हालात बन रहे है उसके बाद कोरोना से जो बचेगा उसे महंगाई मार देगी।
कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष मरकाम आज यहां राजीव भवन कांग्रेस मुख्यालय में प्रेस कांफ्रेंस लेते हुए कहा कि मोदी सरकार के 7 साल के कार्यकाल में हर वर्ष वस्तुओं के दाम दुगुने से अधिक हुये है। पेट्रोल और डीजल के दामों से लेकर रसोई गैस, दवाईयों के दाम, खाद्य तेलों के दाम, खाद्य पदार्थों के दाम, सड़क परिवहन, रेल यात्रा, खेती के उर्वरकों, सब्जियां आदि सभी के दाम दुगुने हुये। उन्होंने कहा कि एक तरफ  खाद्य पदार्थो के दाम बढ़े, दूसरी ओर किसानों की आमदनी घटी, खाद्य पदार्थो के दाम बढऩे का फायदा बिचौलियों को मिला किसानों को नहीं।  
    खाद्य तेलों के बढ़े दामों को लेकर उन्होंने कहा कि देश में खाद्य तेल का सबसे बड़ा निर्माता मोदी के प्रिय गौतम अडानी है। आप समझ सकते हैं खाद्य तेल के दामों को बढऩे का सबसे ज्यादा फायदा अडानी को हो रहा। एक तरफ तो महंगाई बढ़ी, दूसरी तरफ  मोदी सरकार के आर्थिक कुप्रबंधन के कारण लोगों की कमाई घटी, रोजगार के संसाधन घटे, नौकरियां गयी, नोटबंदी जीएसटी से व्यापार-व्यवसाय तबाह हुये। कोरोना जैसी महामारी में मोदी सरकार की अकर्मण्यता के कारण इलाज और दवाईयों में लोगों की जमा पूंजी, जमीन जायदाद खत्म हो गया।  ऐसे में देश में कोरोना के बाद महंगाई भी राष्ट्रीय आपदा साबित होने जा रही है। क्योंकि पेट्रोल-डीजल, रसोई गैस और मिट्टी तेल के दाम रोज बढ़ रहें है, रसोई पर बोझ अभी और बढ़ेगा।
श्री मरकाम ने मोदी सरकार के पिछले डेढ़ साल को लेकर कहा कि इस डेढ़ साल से भारत की जनता कोरोना महामारी की मार झेल रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अदूरदर्शी और जनविरोधी नीतियों ने कोरोना की बीमारी के समय में जीवन को और कठिन बनाया है, चाहे वह अचानक किया हुआ लॉकडाउन हो, अस्पतालों से लेकर ऑक्सीजन तक का इंतजाम हो या फिर वैक्सीन की नीति, हर जगह नरेंद्र मोदी सरकार विफल दिखाई देती है। उन्होंने कहा कि गलत नीतियों और व्यवस्था बनाने में विफलता की वजह से लाखों लोगों की जानें चली गई हैं। लाखों परिवार में कमाई करने वाला मुखिया ही चल बसा है। उद्योग और कारोबार ठप्प होने से रोजगार का संकट पैदा हो गया है। ऐसे समय में मोदी सरकार देश में महंगाई बढ़ाने में लगी हुई है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस को लगता है कि कोरोना महामारी से किसी तरह बच गए लोग तो वे महंगाई नाम की महामारी की चपेट में आने वाले हैं। कोरोना के बाद महंगाई राष्ट्रीय आपदा के रूप में देश में आ गई है और इसके लिए जिम्मेदार सिर्फ  प्रधानमंत्री और उनकी सरकार है।
प्रदेश अध्यक्ष श्री मरकाम ने महंगाई को लेकर प्रदेश भाजपा नेताओं पर निशाना साधते हुए कहा कि हम मांग करते हैं कि भाजपा के पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह, धरमलाल कौशिक से लेकर अजय चंद्राकर और बृजमोहन अग्रवाल जैसे नेता महंगाई पर अपना रुख स्पष्ट करें और कोरोना महामारी के काल में उनकी सरकार महंगाई बढ़ाने में लगी हुई है इसके लिए जनता से माफी मांगें।