कलम के सिपाही फैला रहे जागरूकता

कलम के सिपाही फैला रहे जागरूकता

खरसिया। साहित्य सागर (राष्ट्रीय साहित्यिक संस्था) द्वारा वैश्विक महामारी कोरोना से लड़ने के लिये जागरूकता अभियान चलाया गया है। इस अभियान में अलग-अलग राज्यों के साहित्यकारों ने अपने घर में ही रहकर  एक संदेश प्रद कविता का निर्माण कर उसे एक फोटो कोलाज का रूप दिया। 

संस्था के संस्थापक एवं राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. ऋषि अग्रवाल 'सागर' ने बताया कि इस वक्त सब घर में रह कर कुछ नया करना चाहते हैं। देशहित में कुछ करने की कोशिश में भी लगे हैं। जिस तरह से चिकित्सक, पुलिसकर्मी, प्रशासन भरपूर प्रयास कर हम सबकी रक्षा करने में दिन रात जुटा है। उनकी मेहनत और लगन देख मैंने बस यही सोचा कि क्यों न हम भी घर में रहकर कुछ बेहतरीन संदेश देने का प्रयास करें, जिससे लोगों में जागरूकता आये। क्यों न एक प्रयास कर एकताप्रद संदेश देने की कोशिश की जाये।

इसलिये अलग-अलग राज्यों में रहने वाले साहित्यकारों के सामने जब जागरूकता अभियान के तहत कुछ नया करने की बात रखी गयी तो सब रजामंद हुए और एक बेहतरीन कविता का सृजन करने में सहायक भी बने। दिल्ली से रचना बंसल, चंचल माहौर, मीनाक्षी अग्रवाल, छतीसगढ़ से प्रवीण चतुर्वेदी 'पुष्प', शत्रुंजय तिवारी, जलपाईगुड़ी (बंगाल) से श्वेता अग्रवाल 'ग़ज़ल', झुंझुन (राजस्थान) से अर्चना अग्रवाल, स्नेहा अग्रवाल 'गीत', डॉ. ऋषि अग्रवाल 'सागर', प्रयागराज से शशांक मिश्रा, दीपिका शुक्ला,अनुपम द्विवेदी, जमशेदपुर से गौरव हिन्दुस्तानी, मुम्बई से नेहा विश्वकर्मा, बाड़मेर (राजस्थान ) से सैनिक नरपत सिंह गोहिल, बेगूसराय (बिहार) से गौरव अग्रवाल इत्यादि ने मिलकर सहरानीय प्रयास किया।